Search
Close this search box.

जानें थाना प्रभारी दीपक सिंह ने कत्लखाने पहुंचने से पहले ऊंटों को तस्करों के चंगुल से कैसे किया रेस्क्यू

Join Us On

जानें थाना प्रभारी दीपक सिंह ने कत्लखाने पहुंचने से पहले ऊंटों को तस्करों के चंगुल से कैसे किया रेस्क्यू

जानें थाना प्रभारी दीपक सिंह

चौपारण : थाना क्षेत्र में पहली बार ऐसे ऐसे खुलासा चौपारण थाना प्रभारी दीपक कुमार सिंह के द्वारा किया जा रहा है। जिससे लोग भी काफी चकित हैं और इनके कार्यों के तारीफ करते नहीं थक रहे हैं। अब चौपारण ही नहीं बल्कि दूसरे थाना क्षेत्रों में भी इनके बेहतर कार्यशैली की खूब चर्चा हो रही है। कुछ दिन पूर्व ही 9 मई को एक यात्री एसी बस के अंदर से गौ तस्करी का बड़ा खुलासा कर तस्करों के हर मनसूबे पर पानी फेरने का कार्य किया था, वहीं अब मरुस्थल का जहाज कहे जाने वाले एक दर्जन से अधिक ऊंटों को कत्ल खाने के पहुंचने से पहले ही बड़ा रेस्क्यू कर चौपारण थाना के नाम एक और बड़ी उपलब्धि दर्ज की। शायद चौपारण थाना में ऊंट तस्करी का यह पहला मामला का खुलासा किसी अधिकारी द्वारा की गई हो।

कैसे हुई कारवाई

इस सम्बंध में थाना प्रभारी दीपक कुमार सिंह ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि रात्रि में गुप्त सूचना मिली थी कि (बिहार) की ओर से एक डीसीएम पंजियन संख्या आरजे 27 जीई 4285 में क्रूरता पूर्वक ऊँटों को लोडकर तिरपाल ढंककर वध करने के उद्देश्य से बंगाल ले जाया जा रहा है। इस सूचना के आलोक में छापामारी दल का गठन कर चोरदाहा चेकपोस्ट पर पहुंचकर गया (बिहार) की ओर से आने वाली वाहनों का सघन रूप से जांच के क्रम में एक नारंगी रंग का डीसीएम वाहन को रोके जाने पर तेजी से भागने का प्रयास किया गया। जिसे वहां वाहन चेकिंग डियुटी में तैनात जवानो ने बैरियर लगाकर कर गाड़ी को खड़ा करने पर मजबूर कर दिया। वहीं गाड़ी से उतरकर दो तस्कर भागने का प्रयास किया। जिसे खदेड़ कर सशस्त्र बल ने पकड़ लिया।

क्रूरता पूर्वक लदा पाया गया 14 ऊंट,तड़प तड़प कर एक ऊंट का मौत

पकड़े गए वाहन का तिरपाल हटाकर जांच करने पर वाहन में कुल 14 ऊँट कुरता पूर्वक लोड पाये गये, जिनका बैठने तक का वाहन में जगह नहीं था, जिस कारण एक ऊँट की मृत्यु भी हो गयी। पकड़ाये लोगों के द्वारा वाहन एवं बरामद ऊँट के संदर्भ में कोई वैद्य कागजात प्रस्तुत नहीं किया गया, जिसके बाद बरामद वाहन एवं ऊँट को जप्त कर इस संदर्भ में चौपारण थाना काण्ड सं -176/24 में सुसंगत धाराओं के तहत मामला दर्ज कर अनुसंधानभार पुअनि संजय कुमार सिंह को सौंपा गया। वहीं गिरफ्तार व्यक्ति मो सलमान उम्र 26 वर्ष पिता मो वजीर ग्राम मेरठा थाना निशाडीगेट जिला मेरठ (यूपी ) और दयालाल उम्र 36 वर्ष पिता नौजा राम ग्राम थाना गोकुन्दा जिला उदयपुर (राजस्थान) को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। बतादें कि थाना प्रभारी दीपक कुमार सिंह जॉइनिंग के तीन माह में ही 32 से अधिक कार्रवाई में 57 तस्करों को जेल भेज चुके हैं। छापेमारी दल में पुअनि दीपक कुमार सिंह, थाना प्रभारी, चौपारण,पुअनि निलेश कुमार रंजन, सअनि मनोज कुमार सिंह एवं सशस्त्र बल शामिल थे।

जानें थाना प्रभारी दीपक सिंह

बड़ी खबर : 10वीं उत्तीर्ण विद्यार्थी अब घर बैठे भी कर सकेंगे इंटरमीडिएट की पढ़ाई, खुला झारखंड ओपेन यूनिवर्सिटी

Slide Up
x

Leave a Comment