Search
Close this search box.

हजारीबाग में मनरेगा का काम प्रखंड परिसर में न होकर होटल में

हजारीबाग में मनरेगा का काम प्रखंड परिसर में न होकर होटल में

Join Us On

हजारीबाग में मनरेगा का काम प्रखंड परिसर में न होकर होटल में

हजारीबाग में मनरेगा का काम प्रखंड परिसर में न होकर होटल में

हजारीबाग जिले के इचाक प्रखंड मुख्यालय के मनरेगा सहित कई काम प्रखंड मुख्यालय में न होकर दूसरे जगह (होटल) में किया जा रहा है।
उक्त बाते मुखिया संघ के प्रखंड अध्यक्ष सिकंदर मेहता ने बताया। उन्होंने कहा की विकाश के सारे कार्य बिरसा कूप, डोभा, टीसीबी,मेधबंदी, आदी अनेकों कार्य जो प्रखंड मुख्यालय में होना चाहीए वह सारे कार्य इचाक प्रखंड के बाहर होटल में बैठकर किया जा रहा है। मुखिया ने यह भी कहा की पदाधिकारी अपनी मनमर्जी करने से बाज नही आ रहें हैं। घूसखोरी चरम सीमा पर है।

पदाधिकारीयो का मनमर्जी इससे स्पष्ट होता है की बच्चो की एग्जाम ड्यूटी मिलने के बाद भी सरकार के आदेश का उलंघन किया जा रहा है और होटलों में मनरेगा योजना सहित कई तरह के योजना का कार्य कर रहे हैं। इसमें न सिर्फ़ पदाधिकारी बल्कि विधायक प्रतिनिधि,सांसद प्रतिनिधि, भी संलिप्त हैं। प्रखंड मुख्यालय में परसेंटेज इतना बढ़ा हुआ है की पदाधिकारी की प्रत्येक दिन का इनकम लाखो मे है।पदाधिकारियों के संपति की जांच किया जाना चाहीए।

आज की ताजा उदाहरण देते बताया की बीपीओ राजीव आनंद, मनरेगा जे ई अफजल जी, नवल किशोर कुमार, मनरेगा के राजेंद्र यादव, व अनिल कुमार, साथ में विधायक प्रतिनिधि सचिदानंद अग्रवाल, सांसद प्रतिनिधि मुकेश उपाध्याय इचाक प्रखंड मुख्यालय के बाहर वाले फ्रेंड्स जॉन होटल में बैठकर कई तरह के कार्य करते नजर आए।

मनरेगा के अनिल कुमार द्वारा फाइल को 03:15 में होटल मंगवाया गया जहां पर बीपीओ, जेई, सांसद प्रतिनिधि विधायक प्रतिनिधि मौजूद थे। लगभग एक घंटा तक सबों के बीच मनरेगा सहित कई कार्यो का साइन कर पैसों की लेनदेन के बारे में चर्चा किया गया। इस विषय पर मनरेगा के अनिल से बात करने पर बताया गया कि बीपीओ द्वारा फाइल मंगवाया गया था जिसमें चिट्ठी थी।

प्रमुख पार्वती देवी ने बताइए की हमने बार-बार डीसी को लिखित आवेदन देकर भ्रष्टाचारियों पर अंकुश लगाने पर अपील किया था लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं किया जा रहा है सांसद अन्नपूर्णा देवी की चिट्ठी भी पदाधिकारी इग्नोर कर रहे हैं साथ ही यह भी कहा कि बहुत सारे प्रखंड में बीपीओ का स्थानांतरण हो रहा है लेकिन इचाक प्रखंड में स्थानांतरण नहीं हो रहा है आखिर क्यों?

उप प्रमुख सत्येंद्र कुमार से बात करने पर बताया कि मामला जांच का विषय है जांच में जो शामिल होंगे उनके ऊपर कारवाई किया जाएगा?

बीडीओ से बात करने पर बताया गया की मामला से मैं अवगत नहीं हूं।

सांसद प्रतिनिधि मुकेश उपाध्याय से बात करने पर बताया की हम लोग चाय पीने हेतु बैठे थे।

मुखिया मोदी मेहता, मुखिया प्रतिनिधि और राकेश कुमार उर्फ जोधन मेहता, महेंद्र रविदास, दयानंद मेहता, पसस मनोहर कुशवाहा, धीरज रजक, महेंद्र पाण्डे, सहित कई जनप्रतिनिधि ने उक्त बातें पर टिप्पणी करते हुए कहा की दिन ब दिन प्रखंड और अंचल में बढ़ रही घूसखोरी को लेकर बहुत जल्द आंदोलन शुरू किया जायगा।

बड़ी खबर : झारखंड सहायक नियुक्ति परीक्षा में सुप्रीम कोर्ट में हुई सुनवाई, झारखंड सरकार से मांगा जवाब

x

Leave a Comment