Search
Close this search box.

झारखंड : जवाहर नवोदय विद्यालय में 11वीं के छात्रों ने 8वीं, नौवीं व 10वीं के छात्रों के साथ किया रैंगिंग

झारखंड : जवाहर नवोदय विद्यालय में 11वीं के छात्रों ने 8वीं, नौवीं व 10वीं के छात्रों के साथ किया रैंगिंग

Join Us On

झारखंड : जवाहर नवोदय विद्यालय में 11वीं के छात्रों ने 8वीं, नौवीं व 10वीं के छात्रों के साथ किया रैंगिंग

झारखंड : जवाहर नवोदय विद्यालय में 11वीं के छात्रों ने 8वीं, नौवीं व 10वीं के छात्रों के साथ किया रैंगिंग

झारखंड के गिरिडीह जिला में संचालित जवाहर नवोदय विद्यालय, गांडेय में रैगिंग का मामला प्रकाश में आया है। जहाँ के सीनियर छात्रों द्वारा जूनियर छात्रों के साथ रैगिंग की गई है। आरोप ये भी है कि इंटर के छात्रों ने जूनियर छात्रों के साथ न सिर्फ रैगिंग की, बल्कि चार छात्रों को बेरहमी से पीटा भी। जिससे प्रिंस कुमार नामक छात्र गंभीर रूप से घायल हो गया है। प्रिंस गिरीडीह के बिरनी थाना क्षेत्र के पड़रिया गांव का रहने वाला है। जिसे परिजनो ने इलाज के लिए कोलकाता ले गए हैं।

प्रिंस के पिता लालमोहन दास ने बताया कि प्रिंस उनका इकलौता बेटा है और मारपीटकरनेवाले छात्रों को सजा दिलाने तक वे चुप नहीं बैठेंगे। फिलहाल वह घायल बेटे का इलाज कराने के लिए वे कोलकाता में आ गए हैं। जहां से गांडेय लौटने के बाद वे आरोपी छात्रों के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज कराएंगे। जानकारी के अनुसार मामले को भी स्कूल प्रबंधन ने कैंपस के अंदर ही खत्म करने की कोशिश किया पर डंडे की चोट से जख्मी छात्रों ने जब अपने परिजनों को बताया
तब यह मामला प्रकाश में आया।

वहीं घटना के बाद विद्यालय के प्राचार्य उपेंद्र नाथ चौबे ने रैगिंग में शामिल 11वीं क्लास के तीन छात्रों को विद्यालय से निलंबित भी कर दिया है। रैगिंग के पीड़ित छात्रों की सूचना पर रविवार को विद्यालय में प्रबंधन समिति की बैठक भी की गई। जिसमें प्रबंधन समिति के अध्यक्ष सहित कई अभिभावको को भी शामिल रहे। बैठक में निर्णय लिया गया है कि रैगिंग करनेवाले सभी आरोपी छात्र शपथ पत्र जमा करेंगे ताकि भविष्य में ऐसी घटना की पुनरावृत्ति न हो।

ज्ञात हो कि मंगलवार को 11वीं के 17 छात्रों ने मिलकर 8 वीं, 9 वीं एवं 10 वीं कक्षा के बच्चों के साथ रैगिंग हुई थी। इस दौरान जूनियर छात्रों को डंडे से भी मारा पीटा गया। सीनियर छात्रों की पिटाई से चार छात्र बेहोश भी हो गए थे एवं कई छात्रों को चोट लगी थी। पर सीनियर छात्रों के डर से पीड़ित छात्रों ने इसकी शिकायत न ही स्कूल में की और न ही घरवालों को बताया। पर बिरनी के एक छात्र ने पूरी घटना की सूचना अपने परिजनों को दी। तब कहीं जाकर रैगिंग की घटना की जानकारी लोगों को हुई।

बड़ी खबर : JSSC : झारखंड में शिक्षक भर्ती के लिए 10 फरवरी को होने वाली परीक्षा के महत्वपूर्ण नोटिस जारी

x

Leave a Comment