Search
Close this search box.

शराबी शिक्षक ने अपने बदले में रखा किराए का टीचर मामले में जांच करने पहुंचे प्रमुख और बीडीओ

शराबी शिक्षक ने अपने बदले में रखा किराए का टीचर मामले में जांच करने पहुंचे प्रमुख और बीडीओ

Join Us On

शराबी शिक्षक ने अपने बदले में रखा किराए का टीचर मामले में जांच करने पहुंचे प्रमुख और बीडीओ

शराबी शिक्षक ने अपने बदले में रखा किराए का टीचर मामले में जांच करने पहुंचे प्रमुख और बीडीओ

राजू यादव : मामला हज़ारीबाग़ जिले के टाटीझरिया प्रखण्ड का है। जहां नव प्राथमिक विद्यालय सिमराढाब के शराबी शिक्षक ने अपने बदले में एक किराए का टीचर रखा था। खबर प्रकाशित होने के बाद शिक्षा विभाग में खलबली मच गई। खबर छपने के बाद मामला प्रकाश में आने पर बीडीओ रश्मि खुशबू मिंज, प्रमुख संतोष मंडल, सीआरपी दयाल प्रसाद नव प्राथमिक विद्यालय सिमराढाब पहुंचे। जहां विद्यालय प्रबंधन समिति के अध्यक्ष व कुछ सदस्य उपस्थित हुए।

उनसे पूछने पर उन्होंने बताया कि नारायणपुर गांव की एक लड़की रेखा कुमारी विद्यालय में सितंबर माह से पढ़ाने आ रही थी, जिसे इसी विद्यालय के पारा शिक्षक राजकुमार राम के द्वारा प्रभारी शिक्षक मोहन प्रसाद की सहमति पर रखा गया था। खबर प्रकाशित होने के बाद किराए की शिक्षक शुक्रवार को विद्यालय नहीं पहुंची।

शराबी शिक्षक ने अपने बदले में रखा किराए का टीचर मामले में जांच करने पहुंचे प्रमुख और बीडीओ

प्रमुख संतोष मंडल विद्यालय पहुंचकर उपस्थित विद्यालय प्रबंधन समिति, प्रभारी शिक्षक मोहन प्रसाद, सहयोगी शिक्षक राजकुमार राम व स्कूली बच्चों से पूछताछ किया। प्रभारी शिक्षक मोहन प्रसाद ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि अब किराए की टीचर को हटा दिया गया है। उसने दुबारा ऐसा नहीं करने की बात कही। प्रमुख ने शिक्षक राजकुमार राम को नियमित रूप से स्कूल आने व किसी भी प्रकार का नशापान न करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि यदि शिक्षक ही ऐसा करेंगे तो बच्चों का भविष्य कैसे उज्जवल हो सकेगा।

सिमराढाब के ग्रामीण अशोक मुर्मू ने कहा कि गांव वालों के तरफ से कई बार शिक्षक राजकुमार राम को शराब पीकर स्कूल आने के लिए मना किया गया पर वह अपनी आदतों से बाज नहीं आते।

इधर, 31 जनवरी को प्रभारी प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी राम सेवक दांगी के अवकाश प्राप्त होने के बाद यहां किसी बीईईओ ने प्रभार नहीं लिया है।

बड़ी खबर : बायोमैट्रिक उपस्थिति नहीं बनाने वाले 215 सहायक शिक्षकों एवं 614 सहायक अध्यापकों पर गिरी गाज, प्रपत्र क हो सकती है गठित

x

Leave a Comment