Search
Close this search box.

JSSC CGL : झारखंड सीजीएल एग्जाम में परीक्षार्थियों की होगी बायोमैट्रिक चीजें ले जाना है बैन जांच,

JSSC CGL

Join Us On

JSSC CGL : झारखंड सीजीएल एग्जाम में परीक्षार्थियों की होगी बायोमैट्रिक चीजें ले जाना है बैन जांच,

 ये JSSC CGL : जेएसएससी सीजीएल परीक्षार्थियों को मोबाइल, कैलकुलेटर, स्मार्ट वॉच जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरण लेना प्रतिबंधित रहेगा। 

प्रवेश द्वार पर सभी परीक्षार्थियों की जांच होगी। खूंटी डीसी लोकेश मिश्रा के अध्यक्षता में संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा का आयोजन 28 जनवरी और 4 फरवरी को किया जाएगा। स्थानीय केन्द्रों में 4836 अभ्यर्थी भाग लेंगे और परीक्षा के दिन 200 मीटर के दायरे में धारा 144 लागू रहेगी। 

सहयोग के लिए महिला पुलिस कर्मियों की भी प्रतिनियुक्ति की गई है, और सभी परीक्षार्थियों को बायोमैट्रिक जांच के लिए भी जाएगा।

झारखण्ड सामान्य स्नातक योग्यताधारी संयुक्त प्रतियोगिता करीब 10 वर्षों के अतंराल के उपरांत आयोजित की जा रही है, जिसमें लगभग 6,50,000 अभ्यर्थीगण सम्मिलित होंगे। 

अभ्यर्थियों की अत्यधिक एवं अतिविशाल संख्या के कारण परीक्षा केन्द्र राज्य के 24 जिला मुख्यालयों के अलावा कुछ अनुमण्डलों में भी निर्धारित किये जा रहे हैं; क्योंकि जिला मुख्यालयों स्थित परीक्षा केन्द्रों में पर्याप्त बैठने की क्षमता (seating capacity) उपलब्ध नहीं है। 

IGNOU whatsApp group link :- CLICK HERE

Check video Click here 

JOB WhatsApp group link :- CLICK HEREJSSC CGLJSSC CGLJSSC CGL

सभी जिला उपायुक्त उक्त परीक्षा के लिए अपने जिला अन्तर्गत समन्वयक के रूप में विनिर्दिष्ट किए गए हैं, और जिला मुख्यालयों एवं संबंधित अनुमंडलों में उक्त परीक्षा का प्रबंधन एवं संचालन संबंधित जिला प्रशासन के निकट नियंत्रणाधीन सुनिश्चित किया जाएगा। 

  1. आयोग द्वारा इतने बड़े स्तर पर नियुक्ति प्रतियोगिता परीक्षा का सम्पादन अभी तक नहीं किया गया है और पहली बार किया जा रहा है। उक्त परीक्षा का शांतिपूर्ण एवं कदाचार रहित संचालन हेतु आयोग प्रतिबद्ध है। अभ्यर्थियों एवं उनके अभिभावकों से अपील है कि वे उक्त परीक्षा के शांतिपूर्ण एवं कदाचार रहित संचालन हेतु सहयोग करें। 
  2. झारखण्ड प्रतियोगी परीक्षा (भर्ती में अनुचित साधनों की रोकथाम एवं निवारण के उपाय) अधिनियम, 2023 दिनांक 29.11.2023 से अधिसूचित हो चुका है, और उक्त परीक्षा पर कड़ाई से लागू किया जाएगा। उक्त अधिनियम के अन्तर्गत कदाचार एवं अनुचित साधनों के उपयोग के संदर्भ में परीक्षार्थियों एवं (उनके सहयोगी) व्यक्तियों के लिए निम्नवत् प्रावधानित है

(1) प्रश्न-पत्र के प्रतिरूपण (copy) या प्रकटन (leakage) या प्रकटन का प्रयास या प्रकटन का षडयंत्र करना। 

(ii) अप्राधिकृत रीति से प्रश्न-पत्र को प्राप्त करना या प्राप्त करने का प्रयास करना या कब्जे में लेना या कब्जे में लेने का प्रयास करना। 

(iii) अप्राधिकृत रीति से प्रश्न-पत्र को हल करना या हल करने का प्रयास करना या प्रश्न पत्र हल करने में सहायता मांगना। 

(iv) अप्राधिकृत रीति से प्रतियोगी परीक्षा में परीक्षार्थी की प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से सहायता करना। 

ऑनलाइन परीक्षाओं में प्रश्नों या प्रश्न-पत्र का विवरण (डाटा) अप्राधिकृत व्यक्ति को उपलब्ध कराना या हल करने हेतु निर्धारित कम्प्यूटर लोकल एरिया नेटवर्क या सर्वर आदि से छेड़छाड़ करना और इसके लिए सहायता करना। 

किसी भी प्रतियोगी परीक्षा के प्रश्न-पत्र की चोरी, जबरन वसूली या डकैती या परीक्षा प्राधिकरण के निर्धारित नियमों के विरुद्ध किसी भी प्रकार से उत्तर पुस्तिका और ऑप्टिकल मार्क रिकॉग्निशन (ओ०एम०आर०) शीट को हटाना या नष्ट करना

साधनों के उपयोग अथवा प्रयोग का प्रतिषेधः कोई भी व्यक्ति किसी भी प्रतियोगी परीक्षा में अनुचित साधनों का उपयोग अथवा प्रयोग नहीं करेगा। 

परीक्षा केन्द्र में प्रवेश का प्रतिषेधः कोई भी व्यक्ति, जो प्रतियोगी परीक्षा से संबंधित कार्य में तैनात नहीं है या जो प्रतियोगी परीक्षा के संचालन कार्य में नहीं लगाया गया है, अथवा जो परीक्षार्थी नहीं है, परीक्षा के दौरान परीक्षा केन्द्र के परिसर में प्रवेश नहीं करेगा। 

परीक्षा केन्द्र में अनुचित साधनों / उपकरणों के ले जाने का प्रतिषेधः कोई भी परीक्षार्थी या परीक्षक या परीक्षा में लगा अन्य कोई व्यक्ति, परीक्षा केन्द्र पर किसी भी प्रकार के अनुचित साधनों या उपकरणों का प्रयोग नहीं करेगा। परीक्षा केन्द्र पर किसी भी प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक उपकरण (मोबाइल फोन, ब्लूटूथ डिवाइस, घड़ी, कैल्कुलेटर, पेजर, चिप, कम्प्यूटर को प्रभावित करने वाला कोई उपकरण इत्यादि) ले जाना पूर्णतः निषिद्ध होगा । 

 परीक्षाओं एवं परीक्षाओं से संबंधित प्रश्न-पत्रों एवं उत्तर पत्रकों के संबंध में झूठी, भ्रामक एवं मिथ्या सूचना देने तथा शिकायतों को प्रसारित एवं प्रकाशित करने वाले प्रबंध-तंत्र, संस्था व व्यक्ति अपराध का दोषी समझा जाएगा और स्वयं के विरुद्ध अभियोग/मुकदमा चलाये जाने के लिए उत्तरदायी होगा तथा तदनुसार दण्डित किया जाएगा ।

झारखण्ड प्रारंभिक विद्यालय प्रशिक्षित सहायक आचार्य संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा-2023 का आयोजन माह फरवरी, 2024 में राज्य अन्तर्गत अवस्थित विभिन्न परीक्षा केन्द्रों पर संभावित है। 

परीक्षा में सम्मिलित होने हेतु प्रवेश पत्र डाउनलोड करने संबंधी सूचना आयोग के अधिकृत वेबसाईट www.jssc.nic.in पर यथाशीघ्र प्रकाशित की जायेगी। 

x

Leave a Comment