Search
Close this search box.

अबुआ आवास के मिले 31 लाख आवेदन, 29.97 लाख का हुआ सत्यापन

अबुआ आवास के मिले 31 लाख आवेदन, 29.97 लाख का हुआ सत्यापन

Join Us On

अबुआ आवास के मिले 31 लाख आवेदन, 29.97 लाख का हुआ सत्यापन

अबुआ आवास के मिले 31 लाख आवेदन, 29.97 लाख का हुआ सत्यापन

रांची : ग्रामीण विकास विभाग अबुआ आवास निर्माण से जुड़ी गतिविधियों में लगातार तेजी ला रहा है। योजना में अब तक ग्रामीणों से कच्चा मकान को पक्का करने के लिए 31 लाख से अधिक आवेदन मिले हैं। उसमें से 29. 97 लाख आवेदनों का सत्यापन किया जा चुका है। उसमें से लगभग एक लाख आवेदन डुप्लिकेट मिले हैं। पिछले चार वर्ष की उपलब्धि और आगे की कार्ययोजना से अवगत कराते हुए ग्रामीण विकास विभाग के सचिव श्री चंद्रशेखर ने कहा कि विभाग बंजर भूमि पर कांटा रहित कैक्टस के पौधे लगाने की योजना पर कार्य कर रहा है। यह पशु चारा के साथ वेगन लेदर निर्माण में भी काम आएगा। ग्रामीण विकास विभाग के सचिव श्री चंद्रशेखर सूचना भवन के सभागार में पत्रकार वार्ता में यह जानकारी दे रहे थे।

चालू वित्तीय वर्ष में 911.49 लाख मानव दिवस का सृजन

4 वर्ष के भीतर मनरेगा के तहत अब तक 4135 लाख मानव दिवस का सृजन किया गया है। वर्तमान वित्तीय वर्ष में 900 लाख अनुमोदित मानव दिवस के विरुद्ध अब तक कुल 911.49 लाख मानव दिवस सृजन करते हुए कुल 2962.40 करोड़ रूपये की राशि का व्यय की जा चुकी है। वहीं शत-प्रतिशत् मजदूरी का भुगतान किया गया है। साथ ही इस वित्तीय वर्ष में 1100 लाख से अधिक मानव दिवस सृजन का लक्ष्य लेकर कार्य किया जा रहा है।

वहीं 4 वर्षों में मनरेगा की 23.73 लाख योजनाओं को पूर्ण किया जा चुका है तथा 6.85 लाख योजनाओं पर कार्य जारी है। वर्तमान वित्तीय वर्ष में भी अबतक कुल 6.26 लाख योजना पूर्ण की जा चुकी है। मानव दिवस सृजन में महिलाओ की भागीदारी का प्रतिशत 47.87 है। दूसरी ओर बिरसा हरित ग्राम योजना अंतर्गत ग्रामीणों की आय में वृद्धि के उद्देश्य से गत 4 वर्षों में कुल 1,31,850 एकड़ भूमि पर बागवानी के लक्ष्य के विरुद्ध कुल 1,10,665 एकड़ भूमि पर बागवानी के माध्यम से अबतक कुल 1,27,381 परिवारों को लाभान्वित किया गया है। नीलाम्बर-पीताम्बर जल समृद्धि योजना के तहत 4 वर्षों में जल संचयन एवं मृदा संरक्षण के उद्देश्य से पूरे राज्य में अब तक कुल 5,84,511 योजनाओं को पूर्ण किया गया है तथा वर्तमान वित्तीय वर्ष में कुल 1,10,903 योजनाओं पर कार्य जारी है। बिरसा सिंचाई कूप संवर्द्धन मिशन के तहत मनरेगा तथा राज्य योजना मद की राशि से बिरसा सिंचाई कूप संवर्द्धन मिशन अन्तर्गत एक लाख सिंचाई कूप निर्माण किया जा रहा है। वीर शहीद पोटो हो खेल विकास योजना के माध्यम से इस वित्तीय वर्ष में 10 हजार अतिरिक्त वीर शहीद पोटो हो खेल मैदान निर्माण का लक्ष्य है। 4 वर्षों में ग्रामीण युवाओं को खेल के प्रति प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से अबतक कुल 4184 खेल मैदान तैयार हो चुके हैं तथा 5071 योजनाओं पर कार्य जारी है। पूर्व में पंचायत स्तर पर योजना का क्रियान्वयन किया जाता था, अब ग्राम स्तर पर क्रियान्वित की जा रही है। मनरेगा से अभिसरण के माध्यम से मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना के लाभुकों को पशु शेड दिए जाने का प्रावधान है। इसके तहत् 27786 योजनाओं की स्वीकृति दी गई है। अबतक 13309 योजनाओं में शेड निर्माण पूर्ण किया जा चुका है। मनरेगा तथा महिला, बाल विकास एवं सामाजिक सुरक्षा विभाग के साथ अभिसरण कर गत 4 वर्षों में कुल 1731 आँगनबाड़ी भवनों का निर्माण पूर्ण किया जा चुका है तथा 1571 आँगनबाड़ी भवनों का निर्माण जारी है।

सामाजिक सुरक्षा की राशि बढ़ाई

सामाजिक सुरक्षा के तहत मनरेगा अन्तर्गत सृजित पद के विरुद्ध कार्यरत प्रति कर्मी को राज्य सरकार द्वारा दो वर्ष के लिए 05 लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा का लाभ दिए जाने तथा दुर्घटना से मृत्यु के उपरांत उनके वैध उत्तराधिकारी को 20 लाख रुपये की आर्थिक सहायता राशि उपलब्ध कराने की कार्रवाई की जा रही है। दुर्घटना में मृत्यु अथवा अप्राकृतिक मृत्यु (हत्या सहित) होने अथवा स्थायी रूप से विकलांग/अंगभंग हो जाने पर पहले राशि 75 हजार रुपये दिये जाते थे, जिसे बढ़ाकर 02 लाख रुपया कर दिया गया है। दुर्घटना में आंशिक रूप से विकलांग होने पर पहले 37,500 रुपये दिये जाते थे, जिसे बढ़ाकर 75 हजार रुपये कर दिया गया है। समान्य मृत्यु होने पर पहले 30 हजार रुपये दिये जाते थे, जिसे बढ़ाकर 01 लाख रुपये कर दिये गये हैं। वहीं मनरेगा योजना अन्तर्गत निर्मित डोभा, कुआँ में डूबने से मनरेगा वाले मृतकों के आश्रितों को अनुग्रह अनुदान पहले 50 हजार रुपये दिये जाते थे, जिसे बढ़ाकर 01 लाख रूपया कर दिया गया है।

बिरसा सिंचाई कूप संवर्द्धन मिशन

मनरेगा अन्तर्गत बिरसा सिंचाई कूप संवर्द्धन मिशन के माध्यम से राज्य भर में कुल 01 लाख कूपों का निर्माण 15 नवम्बर, 2024 तक पूर्ण करने का लक्ष्य है, जिसके तहत वित्तीय वर्ष 2023-24 में 50 हजार एवं वित्तीय वर्ष 2024-25 (15 नवम्बर, 2024 तक) में 50 हजार कूप का निर्माण कार्य पूर्ण किया जाना है।

पोषण वाटिका

विद्यालय जाने वाले बच्चों पर विशेष ध्यान देने के साथ ही उनकी पोषण आवश्यकता को पूरा करने के साथ रोजगार के अवसर प्रदान करने के उद्देश्य से मनरेगा एवं स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के अभिसरण से विद्यालयों में पोषण वाटिका का निर्माण किया जा रहा है। जिसके अन्तर्गत 4960 चिह्नित विद्यालयों के विरुद्ध 3971 विद्यालयों में पोषण वाटिका का निर्माण कार्य प्रारम्भ है।

सामाजिक अंकेक्षण इकाई का उपलब्धि/असर/ प्रभाव

मनरेगा के सामाजिक अंकेक्षण रिर्पोट के आधार पर गत 04 वर्षों में 803 मामलों में कुल 40,43,136 रुपये की रिकवरी की गई है। इसके साथ कार्रवाई के रूप में 04 मामलों में प्राथमिकी दर्ज की गयी है, 4570 कर्मियों पर अर्थदण्ड एवं 02 कर्मियों को सेवामुक्त किया गया है। गत 04 वर्षों में 08.01.2024 तक वित्तीय वर्षवार 2897 पंचायतों का सामाजिक अंकेक्षण किया जा चुका है।

प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के 97.83 प्रतिशत निर्माण पूर्ण

प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के 97.83 प्रतिशत निर्माण पूर्ण कर लिए गए हैं। 2016-2022 तक इस योजना के तहत 15,92,171 आवासों की स्वीकृति दी गयी थी। इसमें से 15,57,730 आवास पूर्ण हो चुके हैं। भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय के परफारमेंस इनडेक्स के अनुसार झारखंड राज्य इस मामले में पूरे देश में दूसरे स्थान पर है। वहीं पिछले चार वर्षों में इस योजना के तहत 7,76,642 आवासों की स्वीकृति दी गयी। इसमें से 10,48,262 आवास पूर्ण हो चुके हैं। वर्तमान राज्य सरकार के कार्यकाल में पूर्ण आवासों का प्रतिशत 67.29 है। इसी तरह बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर आवास योजना के तहत चार वर्षों में लंबित आवास सहित कुल 33.795 आवास पूर्ण किये जा चुके हैं। पीएम जनमन योजना भी सुचारू गति से चल रही है।

*दीनदयाल अंत्योदय- राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन*ल

दीनदयाल अंत्योदय- राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत राज्य में 2.89 लाख सखी मंडलों का गठन किया गया है। जिससे 32.94 लाख परिवारों को जोड़ा गया है। विगत चार वर्षों में 1.18 लाख सखी मंडलों का गठन कर 15.29 लाख परिवारों को जोड़ा गया है। वहीं 5 लाख से अधिक महिला किसानों को लखपति महिला बनाया जा चुका है।
इसके अतिरिक्त ग्रामीण विकास विभाग के सचिव ने महिला उत्पादक संगठन, जोहार परियोजना, झारखंड सूक्ष्म टपक सिंचाई परियोजना, महिला किसान सशक्तिकरण परियोजना, पलाश ब्रांड, फूलो झानो आशीर्वाद अभियान, दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना, ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान, बिरसा विशिष्ट जनजातीय विकास योजना एवं उड़ान परियोजना, प्रखंड भवन निर्माण कार्य आदि से जुड़ी जानकारी पत्रकार वार्ता में साक्षा की। साथ ही आगामी योजनाओं की भी जानकारी दी।
पत्रकार वार्ता में मनरेगा आयुक्त श्रीमती राजेश्वरी बी सहित ग्रामीण विकास विभाग से जुड़े अन्य अधिकारीगण भी मौजूद थे।

बड़ी खबर : झारखंड सिविल सेवा की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों के लिए खुशखबरी, मिलेगा आयुसीमा में छूट, इन पदों पर बहाली

x

Leave a Comment