Search
Close this search box.

शिक्षा विभाग द्वारा जारी नियुक्ति नियमावली का ड्राफ्ट जलाकर छात्रों ने किया विरोध

शिक्षा विभाग द्वारा जारी नियुक्ति नियमावली का ड्राफ्ट जलाकर छात्रों ने किया विरोध

Join Us On

शिक्षा विभाग द्वारा जारी नियुक्ति नियमावली का ड्राफ्ट जलाकर छात्रों ने किया विरोध

शिक्षा विभाग द्वारा जारी नियुक्ति नियमावली का ड्राफ्ट जलाकर छात्रों ने किया विरोध

उर्दू सहायक शिक्षक और इंटर प्रशिक्षित शिक्षकों के पद सरेंडर (डाइंग कैडर) या मृत घोषित करने के निर्णय का विरोध अब बढ़ता ही जा रहा है। गुरुवार को शिक्षा विभाग द्वारा जारी प्रमोशन नियमावली- 2024 का ड्राफ्ट जलाकर झारखंड छात्रसंघ ने विरोध दर्ज किया। छात्रसंघ के अध्यक्ष एस अली ने कहा कि राजकीयकृत प्रारंभिक विद्यालय शिक्षक प्रन्नोति नियमावली-2024 का ड्राफ्ट तैयार की गई है। जिसमें इंटरमीडिएट प्रशिक्षित सहायक शिक्षक और उर्दू सहायक शिक्षक के पद को मरणशील संवर्ग करने का प्रवाधान लाई गई है।

नियमावली लागू होने के बाद वर्ष 1999 में बिहार सरकार के द्वारा प्राथमिक एवं मध्य विद्यालय, जहां 10 या उससे अधिक संख्या में उर्दू भाषी छात्र नामंकित एवं अध्ययनरत हैं, उनके लिए सृजित की गई 4401 उर्दू शिक्षक के पद वर्तमान में रिक्त 3712 उर्दू शिक्षक पद को भी सरेंडर कर दिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि सरकार प्रोन्नति नियमावली 2024 के ड्राफ्ट में सुधार करे एवं 4401 उर्दू शिक्षक के रिक्त 3712 पदों को कक्षा 1 से 5 एवं कक्षा 6 से 8 में बांटकर प्रारंभिक शिक्षक नियुक्ति नियमावली 2012 के अनुसार बहाली प्रक्रिया शुरू करे, नहीं तो पूरे राज्य में आंदोलन होगा। इतना ही नहीं सहायक शिक्षक के पद को सहायक आचार्य बनाकर पे-ग्रेड 4200 और 4600 से घटाकर 2400 और 2800 पे ग्रेड कर दिया गया,इस पर भी संघ ने आपत्ति जताई। विरोध प्रदर्शन कार्यक्रम के मौके पर संगठन के पदाधिकारी जियाउद्दीन अंसारी, नौशाद आलम,इमरान अंसारी, इस्मे आजम, औरंगजेब आलम समेत अन्य लोग शामिल थे।

बड़ी खबर :झारखंड के अस्थाई कर्मियों के लिए खुशखबरी,4 माह के अंदर होंगे नियमित, हाइकोर्ट ने सुनाया बड़ा निर्णय

x

Leave a Comment