Search
Close this search box.

22 जनवरी को राजकीय अवकाश घोषित करने की फिर उठी मांग

22 जनवरी को राजकीय अवकाश घोषित करने की फिर उठी मांग

Join Us On

22 जनवरी को राजकीय अवकाश घोषित करने की फिर उठी मांग

22 जनवरी को राजकीय अवकाश घोषित करने की फिर उठी मांग

मंगलवार को हिनू के हवाई अड्डा मार्ग में स्थित एक होटल में पत्रकारों से बातचीत करते हुए संगठन के प्रांत उपाध्यक्ष चंद्रकांत रायपत ने कहा कि प्रदेश में 21 से 22 जनवरी तक मांस-मदिरा की बिक्री पर भी रोक लगाई जाए, क्योंकि उस दिन देशभर के साथ-साथ पूरे प्रदेश में गांव-गांव में बड़े पैमाने पर धार्मिक अनुष्ठान आयोजित किए जाएंगे। उन्होंने यह मांग झारखंड सरकार से की है।

उन्होंने कहा कि एक जनवरी से राज्य भर में चले अभियान में पूजित अक्षत का वितरण हो रही है। पूजित अक्षत वितरण आमंत्रण अभियान के प्रांत प्रमुख मनोज पोद्दार ने बताया कि श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के आह्वान पर एक पखवाड़ा तक सभी जिलों में निमंत्रण घर-घर तक देने का महाअभियान संपन्न हो चुका है।

अभियान में लगे कार्यकर्ता झारखंड के सभी प्रखंडों के 5304 पंचायत एवं 31026 गांव के कुल 47 लाख 72 हजार परिवारों तक गये। अक्षत वितरण में विहिप, बजरंग दल, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सभी अनुषांगिक संगठन, सभी धार्मिक, आध्यात्मिक, सामाजिक संगठन के लोग साथ रहे।

विहिप ने किया ये आह्वान

विहिप की ओर से राज्य के सनातनी समाज से 22 जनवरी को दिन के 11 बजे समीप के मंदिर में एकत्र होकर धार्मिक अनुष्ठान में भागीदारी निभाने का आह्वान की है। यह कार्यक्रम दोपहर एक बजे तक चलेगा।

आरती की थाली घरों से लेकर आएं

कहा गया है कि मंदिरों में प्रोजेक्टर, स्क्रीन, टीवी के माध्यम से श्रीधाम अयोध्या में होने वाले अनुष्ठान के सीधा प्रसारण की व्यवस्था करें। मां-बहनें अपने घरों से आरती की थाली लेकर मंदिर पहुंचेंगी एवं जब अयोध्या में श्रीराम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा की प्रथम आरती हो तो उस आरती में अपने स्थान पर उपस्थित सभी लोग खड़े होकर उसमे शामिल हों। सभी आरती के बाद प्रसाद को ग्रहण कर अपने घर को लौटेंगे।

रात में मनेगा दीपोत्सव

वहीं रात में घरों, प्रतिष्ठानों एवं मंदिरों में दीपोत्सव का आह्वान किया गया है। प्रेस वार्ता में प्रांत सहमंत्री रंगनाथ महतो, प्रचार प्रसार प्रांत सहप्रमुख प्रकाश रंजन, बजरंग दल रांची विभाग संयोजक प्रिंस अजमानी, महानगर अध्यक्ष कैलाश केसरी, प्रचार प्रसार रांची विभाग प्रमुख अमर प्रसाद सहित अन्य शामिल थे।

बड़ी खबर : झारखंड के अस्थाई कर्मियों के लिए खुशखबरी,4 माह के अंदर होंगे नियमित, हाइकोर्ट ने सुनाया बड़ा निर्णय

x

Leave a Comment