Search
Close this search box.

बिना बीएड डिग्री के भी बन सकेंगे सरकारी शिक्षक,12वीं पास अभ्यर्थियों के लिए आई बड़ी खुशखबरी

Join Us On

बिना बीएड डिग्री के भी बन सकेंगे सरकारी शिक्षक,12वीं पास अभ्यर्थियों के लिए आई बड़ी खुशखबरी

बिना बीएड डिग्री के भी बन सकेंगे सरकारी शिक्षक,12वीं पास अभ्यर्थियों के लिए आई बड़ी खुशखबरी

Teaching Job without BEd Degree: अब बिना बीएड डिग्री के भी आप सरकारी शिक्षक बन सकेंगे। 12वीं पास अभ्यर्थियों के लिए यह बड़ी खुशखबरी वाली खबर है। ऐसे कई युवक है जो शिक्षक बनने का सपना को सजा रखा है और छोटे छोटे बच्चों को बेहतर शिक्षा प्रदान करके उनको भविष्य के लिए तैयार करना चाहते है। परंतु शिक्षक क्षेत्र में जाने के लिए उनको कई स्टेप से गुजरना पड़ता है, जैसे इंटर करने के बाद स्नातक डिग्री और फिर दो साल का प्रारंभिक शिक्षा में डिप्लोमा या फिर बीएड की डिग्री, उसके बाद उन्हें शिक्षक बनने के लिए किसी भर्ती परीक्षा में भाग लेना पड़ता है। इसी प्रक्रिया को अब आसान करने के लिए विभाग ने ITEP कोर्स की शुरुआत की गई।

ITEP कोर्स के बारे में जाने सम्पूर्ण जानकारी

ITEP का फुल फॉर्म है इंटीग्रेटेड टीचर्स एजुकेशन प्रोग्राम। यह एक ऐसा एजुकेशन प्रोग्राम है जिसके तहत छात्र कक्षा 12वीं पास करने के साथ ही प्रवेश कर सकते हैं। इस प्रोग्राम को शुरू करने का उद्देश यह था कि छात्रों को प्रारंभिक और माध्यमिक जैसे विभिन्न स्तरों के कक्षाओं के लिए शिक्षकों को तैयार करना।

स्नातक, बीएड या फिर इसके समकक्ष डिग्री की आवश्यकता नहीं

यह ITEP कोर्स को करने के लिए छात्रों को किसी भी स्नातक, बीएड या समकक्ष प्रारंभिक शिक्षा में डिप्लोमा की डिग्री की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। छात्र 12वीं कक्षा को उत्तीर्ण करने के बाद तुरन्त इस कोर्स में दाखिला ले सकते हैं और शिक्षक बनने के अपने सपने को पूरा कर सकेंगे।

किनके लिए महत्वपूर्ण होगा
यह डिग्री

यह डिग्री उन लोगों के लिए महत्वपूर्ण होगी जो शिक्षक के तौर पर अपना कैरियर बनाने को इच्छुक हैं। कई छात्र तीन वर्ष का स्नातक डिग्री लेने के बाद निर्धारित करते थे कि उन्हें शिक्षक क्षेत्र में रुचि है या नही किंतु अब स्कूल पास करते ही चार साल का यह कोर्स करने के बाद आप शिक्षक के परीक्षाओं में भाग ले सकेंगे और डिग्री भी जल्दी मिल सकेगा।

ये है कोर्स की अवधि

ITEP का कोर्स एनसीटीई के तरफ से चार साल के लिए निश्चित की गई है और 12वीं कक्षा पास करने के बाद यह चार साल का ITEP कोर्स करके वह शिक्षक बनने के परीक्षाओं में बैठ पाएंगे। देखा जाए तो अब तक 12वीं कक्षा करके तीन वर्ष का स्नातक उसके बाद दो वर्ष का डिप्लोमा या बीएड डिग्री प्राप्त करने में कुल पांच साल लग जाता था। उसके बाद ही वे छात्र कहीं शिक्षक बनने की प्रक्रिया में शामिल हो पाते थे। परंतु अब यह चार वर्षों में ही कंप्लीट कर सकते हैं। और ITEP कोर्स करने के बाद वह शिक्षक परीक्षाओं में शामिल हो सकते हैं।

इस कोर्स से मिलने वाले लाभ

नई शिक्षा नीति के मुताबिक ITEP कोर्स करने से शिक्षण क्षेत्र में दो चीजों का बहुत बड़ा लाभ मिलेगा जैसे कि शिक्षण क्षेत्र में गुणवत्ता आयेगा और शिक्षण क्षेत्र के विविधता को भी बढ़ावा मिलेगा। नई शिक्षा नीति में किए गए बदलाव शिक्षण क्षेत्र में नई दिशा भी प्रदान करेगा। छात्रों को अपने करियर को सुगमता से शुरुआत करने का भी मौका मिलेगा। और छात्र बेहतर तरीके से बच्चों के लिए शिक्षण प्रक्रिया को आसान बना पाएंगे।

प्राइमरी से लेकर हायर एजुकेशन में होगा सुधार

नई शिक्षा नीति में इस बदलाव को करने से प्राइमरी लेवल से लेकर हायर एजुकेशन की शिक्षण प्रक्रिया में भी सुधार आने की संभावना है। जो विद्यार्थी अपने पढ़ाई को लेकर सीरियस होंगे एवं सच में शिक्षण क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहेंगे उनके लिए यह अत्यंत ही महत्वपूर्ण कोर्स साबित होगा।

अधिक जानकारी के लिए आप नेशनल काउंसिल फॉर टीचर्स एजुकेशन यानी कि एनसीटीई की आधिकारिक वेबसाइट http://ncte.gov.in पर आप विजिट कर सकते है। जिस वेबसाइट में ITEP कोर्स से संबंधित और उसके प्रवेश प्रक्रिया से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है।

बड़ी खबर : झारखंड के 20 लाख लोग और राशनकार्ड से जुड़ेंगे, आठ हजार एक सौ 11 करोड़ का द्वितीय अनुपूरक बजट पारित

x

Leave a Comment