Search
Close this search box.

महिलाओं को मासिक धर्म अवकाश की आवश्यकता नहीं है , संसद में स्मृति इरानी ने कहा, तो क्या महिलाओं को अब नहीं मिलेगी ये सुविधा

महिलाओं को मासिक धर्म अवकाश की आवश्यकता नहीं है , संसद में स्मृति इरानी ने कहा, तो क्या महिलाओं को अब नहीं मिलेगी ये सुविधा

Join Us On

महिलाओं को मासिक धर्म अवकाश की आवश्यकता नहीं है , संसद में स्मृति इरानी ने कहा, तो क्या महिलाओं को अब नहीं मिलेगी ये सुविधा

महिलाओं को मासिक धर्म अवकाश की आवश्यकता नहीं है , संसद में स्मृति इरानी ने कहा, तो क्या महिलाओं को अब नहीं मिलेगी ये सुविधा

ये हमारी जिंदगी का हिस्सा, कमजोरी नहीं, इस लीव से फीमेल एम्प्लॉयीज के साथ भेदभाव बढ़ेगा

नई दिल्ली (एजेंसी)। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कामकाजी महिलाओं को पेड मेंस्टूअल लीव (सवेतन मासिक धर्म अवकाश) दिए जाने पर असहमति जताई है। उन्होंने कहा कि मेंस्ट्रएशन महिलाओं के जीवन का नेचुरल पार्ट है। इसे दिव्यांगता यानी किसी तरह की कमजोरी की तरह नहीं देखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि महिला के तौर पर मैं जानती हूं कि पीरियड्स और मेंस्ट्रएशन साइकिल परेशानी की बात नहीं हैं। पीरियड्स के दौरान ऑफिस से लीव मिलना महिलाओं से भेदभाव का कारण बन सकता है। कई लोग जो खुद मेंस्ट्रएट नहीं करते हैं, लेकिन इसे लेकर अलग सोच रखते हैं। हमें उनकी सोच को आधार बनाकर ऐसे मुद्दों को नहीं उठाना चाहिए जिससे महिलाओं को समान अवसर मिलने कम हो जाएं।

स्मृति ईरानी ने संसद में बुधवार को महिलाओं को पीरियड्स के दौरान पेड लीव (छुट्टी) दिए से जुड़े राष्ट्रीय जनता दल सांसद मनोज कुमार के सवाल पर जवाब दिया।

पीरियड हाइजीन के लिए मसौदा तैयार, फैलाई जाएगी जागरूकता –

स्मृति ईरानी ने पीरियड हाइजीन को महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की तरफ से राष्ट्रीय स्तर पर तैयार किए गए एक ड्राफ्ट का जिक्र किया।

उन्होंने कहा कि स्टेक होल्डर्स के सपोर्ट से यह नीति तैयार की गई है, जिसका उद्देश्य पीरियड्स और हाइजीन को लेकर जागरूकता फैलाना है। उन्होंने मौजूदा (मासिक धर्म स्वच्छता प्रबंधन) को बढ़ावा देने वाली योजना की बात की, जो 10 से 19 साल की लड़कियों के लिए है। इस योजना के जरिए में पीरियड से जुड़ी अवेयरनेस फैलना उद्देश्य है।

स्पेन ने महिलाओं-लड़कियों को मिलती है पेड पीरियड लीव- स्पेन में पेड पीरियड लीव को लेकर काफी विवाद रहा। इसके बाद स्पेन में तय किया गया कि पीरियड में होने वाली परेशानी के चलते महिलाओं, लड़कियों को लीव दी जाए। ऐसा फैसला करने वाला स्पेन यूरोप का पहला देश है। 8 दिसंबर को कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने पेड पीरियड लीव को लेकर सवाल किया था। इसका जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने यही कहा था कि वर्किंग प्लेस में पेड पीरियड लीव को अनिवार्य करने का सरकार के पास फिलहाल कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है। स्पेन, यूरोप का पहला देश है जो महिलाओं- लड़कियों को पेड पीरियड लीव देता है। जापान और साउथ कोरिया में महिलाओं को पीरियड्स के लिए छुट्टी मिलती है।

बड़ी खबर : झारखंड कैबिनेट की बैठक कल, नौकरी की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों को मिल सकता है तौहफा, शीतकालीन सत्र में छायेगे ये मुद्दा

x

Leave a Comment