Search
Close this search box.

झारखंड विधानसभा का शीतकालीन सत्र 15 से 21 तक, 1932 खतियान विधेयक पेश करने की तैयारी

Join Us On

झारखंड विधानसभा का शीतकालीन सत्र 15 से 21 तक, 1932 खतियान विधेयक पेश करने की तैयारी

झारखंड विधानसभा का शीतकालीन सत्र 15 से 21 तक, 1932 खतियान विधेयक पेश करने की तैयारी

राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन ने संसदीय कार्य विभाग के झारखंड विधानसभा के शीतकालीन सत्र के प्रस्ताव को बुधवार को मंजूरी दे दी। शीतकालीन सत्र में पांच कार्य दिवस होंगे। झारखंड विधानसभा का शीतकालीन सत्र 15 से 21 दिसंबर तक आहूत होगी।

विधानसभा सत्र का अवसान करने के प्रस्ताव को राज्य मंत्रिपरिषद की पिछली बैठक में मंजूरी दी गई थी। संसदीय कार्यमंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि प्रस्ताव कैबिनेट के निर्णय की प्रत्याशा में राजभवन को मंजूरी के लिए भेजा गया था।सत्र के दौरान ही झारखंड सरकार इस वित्तीय वर्ष का दूसरा अनुपूरक बजट पेश करेगी।

ज्ञात हो गुरुवार को झारखंड कैबिनेट की बैठक होने जा रही है जिसमें शीतकालीन सत्र से संबंधित प्रस्ताव पेश कर स्वीकृति ली जा सकती है। मंत्रिपरिषद की स्वीकृति मिलते ही शीतकालीन सत्र का शेड्यूल जारी होगा।

1932 खतियान विधेयक पुनः पेश करने की तैयारी,चतुर्थ वर्गीय नौकरी स्थानीय को आरक्षण

राजभवन की ओर से 1932 खतियान आधारित स्थानीयता नीति विधेयक राज्यपाल के संदेश के साथ विधानसभा को मिल चुका है। राज्यपाल ने अटॉर्नी जनरल की सलाह को हवाला देते हुए राज्य सरकार से इस विधेयक पर पुनर्विचार करने का निर्देश दी गई है। जिसमें कहा गया है कि राज्य की चतुर्थवर्गीय नियुक्तियां स्थानीय के लिए आरक्षित करने पर निर्णय ली जा सकती है।

मिली जानकारी के अनुसार राज्य सरकार विधानसभा सत्र में राज्यपाल के निर्देशों के आलोक में संशोधन के साथ विधेयक को पेश कर सकती है। तब पुनः राज्यपाल के पास मंजूरी के लिए विधेयक को भेजा जाएगा।

बड़ी खबर : सऊदी अरब में फंसे झारखंड के 45 मजदूर, वीडियो वायरल कर सरकार से वतन वापसी की लगा रहे हैं गुहार, VEDIO वायरल

x

Leave a Comment