Search
Close this search box.

JPSC नियुक्ति : गड़बड़ी में हाइकोर्ट का बड़ा एक्शन, सीबीआई को भी घेरा, अब खुलेगा राज

Join Us On

JPSC नियुक्ति : गड़बड़ी में हाइकोर्ट का बड़ा एक्शन, सीबीआई को भी घेरा, अब खुलेगा 

JPSC नियुक्ति : गड़बड़ी में हाइकोर्ट का बड़ा एक्शन, सीबीआई को भी घेरा, अब खुलेगा राज

झारखंड लोकसेवा आयोग (जेपीएससी) प्रथम व द्वितीय सिविल सेवा परीक्षा में गड़बड़ी की जांच चल रही है। पर अब तक जांच पूरी नहीं होने पर हाईकोर्ट ने सख्त रुख अपनाया है।

कोर्ट बुद्धदेव उरांव की याचिका और सरकार की अपील याचिका पर सुनवाई की। चीफ जस्टिस संजय कुमार मिश्र एवं जस्टिस आनंदा सेन की खंडपीठ ने बुधवार को सुनवाई करते हुए सीबीआई से पूछा कि 13 साल बाद भी जांच पूरी क्यों नहीं हुई। जांच पूरी होने में देरी क्यों हो रही है, यह कब तक पूरी होगी?

कोर्ट ने पूछा है कि सिविल सेवा परीक्षा में अगर कुछ गड़बड़ी मिली है तो आरोप पत्र दाखिल कर जांच पूरी करनी चाहिए थी पर ऐसा नहीं किया गया।

कोर्ट ने सीबीआई के अनुसंधानकर्ता को अगली सुनवाई में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पेश होने का निर्देश दिया। इसकी अगली सुनवाई 15 दिसंबर को होगी। उधर इस मामले में सीबीआई ने स्टेटस रिपोर्ट को दाखिल कर दी है।

सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता बुद्धदेव उरांव के वकील राजीव कुमार ने कोर्ट को कहा कि वर्ष 2011 में एसीबी ने यह मामला दर्ज किया था। उसके बाद हाईकोर्ट के आदेश पर इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई। पर 13 साल बीतने के बाद भी न तो जांच पूरी हुई और न ही आरोप पत्र दाखिल हो पाया। जबकि पिछली सुनवाई में सीबीआई ने हाईकोर्ट में बताया था कि अभी जांच जारी है।

बुद्धदेव उरांव ने जेपीएससी प्रथम व द्वितीय सिविल सेवा परीक्षा में अंकों की हेराफेरी करने एवं रिजल्ट प्रकाशन में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए इसकी सीबीआई जांच कराने का आग्रह किया था। वहीं राज्य सरकार की ओर से भी जेपीएससी द्वितीय के दौरान नियुक्त अधिकारियों के खिलाफ एलपीए दायर की गई थी।

झारखंड अवर शिक्षा सेवा नियमावली, 2023 के गठन की स्वीकृति सहित 32 प्रस्तावों को झारखंड कैबिनेट की मंजूरी

बड़ी खबर : JSSC JITOCE : झारखंड औद्यौगिक प्रशिक्षण अधिकारी के 930 पदों पर नियुक्ति के लिए सूचना जारी

x

Leave a Comment