Search
Close this search box.

पीएचडी जरूरी नहीं अब नेट या जेट पास भी बन सकेंगे असिस्टेंट प्रोफेसर

पोस्ट ग्रेजुएट में दाखिले के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू, सीयूईटी के साइट में 24 जनवरी तक मौका

Join Us On

पीएचडी जरूरी नहीं अब नेट या जेट पास भी बन सकेंगे असिस्टेंट प्रोफेसर

पीएचडी जरूरी नहीं अब नेट या जेट पास भी बन सकेंगे असिस्टेंट प्रोफेसर

झारखंड की यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति में पीएचडी की अनिवार्यता को अब खत्म कर दिया है। नेट और जेट पास भी अब असिस्टेंट प्रोफेसर बन सकते हैं। बुधवार को हुए कैबिनेट की बैठक में इस पर फैसला लिया गया।

कैबिनेट सचिव ने जानकारी देते हुए कहा कि झारखंड के बाहर के केंद्रीय और राज्य विश्वविद्यालयों में कार्यरत अनुभवी शिक्षकों को भी राज्य के संस्थानों में प्रतिनियुक्त की जा सकेगी। यह प्रतिनियुक्ति एसोसिएट प्रोफेसर एवं प्रोफेसरों के स्वीकृत पदों के विरुद्ध किया जाएगा। इसके लिए कुछ शर्ते भी तय की गई हैं। बतादें कि राज्य में असिस्टेंट प्रोफेसर के करीब 1500 पद खाली पड़े हैं।

राज्य के बाहर के शिक्षकों की भी हो सकेगी प्रतिनियुक्ति

एसोसिएट प्रोफेसर के कुल स्वीकृत पदों का एक चौथाई पद सीधी भर्ती द्वारा भरा जा सकेगा। इसके अलावा योग्य शिक्षकों की भी प्रतिनियुक्ति हो सकेगी। उन्हीं शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति हो पाएगी, जिनके पास कम से कम तीन साल का एसोसिएट प्रोफेसर का अनुभव होगा। साथ ही उम्मीदवारों को राष्ट्रीय या अंतर्राष्ट्रीय रिसर्च पेपर (जर्नल) एवं शोध या परियोजना प्रशिक्षण कार्यक्रम को आयोजित करने का अनुभव हो।

प्रोफेसर की प्रतिनियुक्ति के लिए ये हैं शर्तें

प्रोफेसर के कुल स्वीकृत पदों का एक चौथाई पद सीधी भर्ती से भरा जाएगा। जिसमें योग्य शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति भी हो सकेगी। उन्हीं शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति हो पाएगी, जिनके पास कम से कम चार साल का अनुभव होने के साथ राष्ट्रीय या अंतर्राष्ट्रीय रिसर्च पेपर (जर्नल) एवं शोध या परियोजना प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करने का अनुभव प्राप्त हो। प्रतिनियुक्ति की स्थिति में केवल झारखंड के बाहर स्थित केंद्रीय या राज्य विश्वविद्यालयों में कार्यरत शिक्षक ही पात्र होंगे।

योग्य उम्मीदवार को अपने मूल संस्थान से अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) एवं पूरे अनुभव का प्रमाण पत्र देना पड़ेगा। प्रतिनियुक्ति झारखंड राज्य विश्वविद्यालय अधिनियम, 2000 (स्वीकृत एवं संशोधित) के मुताबीक गठित विश्वविद्यालय चयन समिति के द्वारा की जाएगी। प्रतिनियुक्ति के लिए अधिकतम आयु की सीमा 62 वर्ष से अधिक नहीं होगी।

बड़ी खबर : झारखंड अवर शिक्षा सेवा नियमावली, 2023 के गठन की स्वीकृति सहित 32 प्रस्तावों को झारखंड कैबिनेट की मंजूरी

x

Leave a Comment