Search
Close this search box.

पढ़ाई के साथ छात्रों को अब हर माह मिलेंगे 10-15 हजार, पढ़ाई के साथ कमाई के इस योजना को सरकार ने दी स्वीकृति

पढ़ाई के साथ छात्रों को अब हर माह मिलेंगे 12 हजार, पढ़ाई के साथ कमाई के इस योजना को सरकार ने दी स्वीकृति

Join Us On

पढ़ाई के साथ छात्रों को अब हर माह मिलेंगे 12 हजार, पढ़ाई के साथ कमाई के इस योजना को सरकार ने दी स्वीकृति

पढ़ाई के साथ छात्रों को अब हर माह मिलेंगे 12 हजार, पढ़ाई के साथ कमाई के इस योजना को सरकार ने दी स्वीकृति

पढ़ाई के साथ छात्रों को अब हर माह पैसे मिलेंगे। इसे लेकर झारखंड के सरकारी विश्वविद्यालयों में सामान्य स्नातक की पढ़ाई पूरी करने वाले छात्र-छात्राओं को विश्वविद्यालयों एवं कॉलेजों में एक साल का प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण के दौरान प्रतिमाह स्टाइपेंड भी मिलेगा।

सरकार ने इस योजना को अपनी स्वीकृति प्रदान कर चुकी है। जिसके बाद उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग ने भी इसे लेकर आदेश जारी कर दिया है। इसके तहत डिप्लोमा, इंजीनियरिंग के साथ-साथ गैर अभियंत्रण स्नातकों का भी एक साल का अप्रेंटिसशिप करवाई जाएगी।

झारखंड सरकार ने अप्रेंटिसशिप एक्ट के तहत 2021 में डिप्लोमा और इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने वाले स्टूडेंट्स को अप्रेंटिसशिप कराने का निर्णय लिया था। जिसमें निर्धारित राशि राज्य सरकार देती है, जबकि शेष राशि प्रतिपूर्ति के रूप में भारत सरकार के बोर्ड आफ प्रैक्टिकल ट्रेनिंग, पूर्वी क्षेत्र द्वारा किया जाता है।

अप्रेंटसिशप के दौरान प्रतिमाह मिलेंगे 10 से 15 हजार रु

अब गैर इंजीनियरिंग डिग्रीधारी प्रशिक्षुओ के लिए भी अप्रेंटिसशिप नेशनल अप्रेंटसिशप ट्रेनिंग स्कीम के तहत कराने का फैसला लिया गया है। इन प्रशिक्षुओं को एक साल के अप्रेंटसिशप के दौरान सामान्य स्नातक प्रशिक्षु को प्रति माह 12 हजार, इंजीनियरिंग स्नातक प्रशिक्षु को प्रति माह 15 हजार एवं डिप्लोमाधारी प्रशिक्षु को प्रति माह 10 हजार रुपये स्टाइपेंड राशि दी जायेगी।

यूनिवर्सिटीज के लिए अधिकतम 20 और कॉलेजों के लिए 10 अप्रेंटिस की सीमा भी तय की गई है। उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग में इसकी संख्या चार होगी।

छात्र-छात्राओं का चयन की ये होगी प्रक्रिया

अप्रेंटिसशिप के लिए इच्छुक छात्र-छात्राओं से आवेदन आमंत्रित की जाएगी। जिसके लिए उन्हें झारखंड के मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों, कॉलेजों से उत्तीर्ण होना और नेशनल अप्रेंटिसशिप ट्रेनिंग स्कीम पोर्टल पर निबंधित होना जरूरी होगा।

यहां मिलेगा प्रशिक्षण

चयनित छात्र-छात्राओं का अप्रेंटिस विश्वविद्यालयों, अंगीभूत कॉलेजों, उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग के कार्यालयों और झारखंड विज्ञान प्रावैधिकी परिषद के कार्यालयों में कराया जाएगा।स्नातक प्रशिक्षुओं के अप्रेंटिसशिप कराने के लिए विश्वविद्यालयों, कॉलेजों आदि में 15 प्रतिशत पद आरक्षित रखना होगा। जिसमें वे पद भी सम्मिलित हैं, जिसमें अनुबंध पर नियुक्ति होती है।

बड़ी खबर : झारखंड कैबिनेट : राज्यकर्मियों व प्रवासी मजदूरों को बड़ा तोहफा,सीधी भर्ती सहित इन महत्वपूर्ण प्रस्तावो को मंजूरी

x

Leave a Comment