Search
Close this search box.

नदी में डूबने-वज्रपात से मरनेवालों के परिजनों को मिलेंगे 4-4 लाख, प्राकृतिक आपदा के शिकार लोगों को मुआवजा देने में तेजी

नदी में डूबने-वज्रपात से मरनेवालों के परिजनों को मिलेंगे 4-4 लाख, प्राकृतिक आपदा के शिकार लोगों को मुआवजा देने में तेजी

Join Us On

नदी में डूबने-वज्रपात से मरनेवालों के परिजनों को मिलेंगे 4-4 लाख, प्राकृतिक आपदा के शिकार लोगों को मुआवजा देने में तेजी

नदी में डूबने-वज्रपात से मरनेवालों के परिजनों को मिलेंगे 4-4 लाख, प्राकृतिक आपदा के शिकार लोगों को मुआवजा देने में तेजी

जिला प्रशासन ने प्राकृतिक आपदा में जान गंवानेवालों के आश्रितों को समय पर मुआवजा देने की प्रक्रिया तेज कर दी है। राँची डीसी राहुल कुमार सिन्हा के निर्देश पर वीडीओ- सीओ को प्रभावितों की सूची तैयार कर अनुशंसा करने का निर्देश दिया गया है, ताकि आश्रितों को समय पर मुआवजा दिया जा सके।

इसी कड़ी में नामकुम के स्व. पवन टोप्पो की पत्नी अनिता टोप्पो को चार लाख रुपए मुआवजा देने की स्वीकृति दी गई है। पवन टोप्पो की मौत 23 जुलाई को नदी में डूबने से हो गई थी। उनकी पत्नी ने क्षतिपूर्ति के लिए आवेदन दिया था, जिसे स्वीकृत कर दिया गया।

इधर, नगड़ी प्रखंड निवासी मंगरा उराव को भी चार लाख रुपए मुआवजा देने की स्वीकृति दी गई है। मंगरा के पुत्र विपिन उरांव की मौत 28 सितंबर को पलांडू गांव में वज्रपात से हो गई थी। आश्रितों ने क्षतिपूर्ति के लिए आवेदन दिया था। जांच के बाद डीसी ने इसकी भी स्वीकृति दे दी।

इधर, नामकुम और इटकी अंचल के चार लोगों के मकानों की क्षति होने पर 3200 रुपए की दर से क्षतिपूर्ति दी गई। चारों प्रभावितों के मकान अतिवृष्टि में क्षतिग्रस्त हो गए थे। डीसी ने प्राकृतिक आपदा से प्रभावित होने वाले परिवारों को समय पर आवेदन करने की सलाह दी है, ताकि प्रशासन त्वरीत कार्रवाई करते हुए क्षतिपूर्ति का भुगतान कर सके।

बड़ी खबर : JSSC ने विभिन्न केंद्रों में समपन्न नगरपालिका सेवा संवर्ग परीक्षा को की रद्द, छात्रों के लिए अच्छी खबर

x

Leave a Comment