Search
Close this search box.

शिक्षकों के प्रतिनियोजन मामले में बीईईओ द्वारा जारी कार्यालय आदेश को डीएसई ने तीन घण्टे के भीतर किया स्थगित

Join Us On

शिक्षकों के प्रतिनियोजन मामले में बीईईओ द्वारा जारी कार्यालय आदेश को डीएसई ने तीन घण्टे के भीतर किया स्थगित

शिक्षकों के प्रतिनियोजन

 

शिक्षकों का प्रतिनियोजन मामला पर कुछ देर के लिए विराम तो लगा पर दो घण्टे के भीतर ही बीईईओ द्वारा जारी कार्यालय आदेश को जिला शिक्षा अधीक्षक ( डीएसई ) ने स्थगित कर दी।

प्राखंड संसाधन केंद्र, चौपारण हजारीबाग द्वारा जारी कार्यालय आदेश ज्ञापंक 419 में कहा गया था कि चौपारण प्रखण्डाधीन विद्यालयों में अधोहस्ताक्षरी कार्यालय से पूर्व में किए गए सहायक अध्यापकों का सभी प्रकार का प्रतिनियोजन (बन्द विद्यालय को छोड़कर) तत्काल प्रभाव से रद्द किया जाता है। प्रतिनियोजित सहायक अध्यापकों को आदेश दिया जाता है कि वे अपने मूल विद्यालय में योगदान देना सुनिश्चित करेगें । जिस पर डीएसई हजारीबाग ने तीन घण्टे के भीतर ही निरस्त कर दिया।

डीएसई द्वारा जारी कार्यालय आदेश में कहा गया कि प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी, चौपारण-1 एवं 2 के कार्यालय आदेश ज्ञापांक- 419, दिनांक- 20.09.2023 को तत्काल प्रभाव से अगले तक के लिये स्थगित किया जाता है, उचित मंच पर विचारोपरांत / समीक्षोंपरांत इस पर अग्रेतर कार्रवाई की जा सकेगी।

तीन घण्टे के भीतर

क्या है मामला

बतादें कि चौपारण प्रखंड अंतर्गत उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय गरमोरवा के सहायक अध्यापक शिवकुमार यादव एवं उत्क्रमित मध्य विद्यालय भंडार के सहायक अध्यापक दिनेश कुमार यादव का प्रतिनियाेजन मूल विद्यालय से दूसरे विद्यालय मे प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी सह समन्वयक प्रखंड संसाधन केंद्र चौपारण के प्रखण्ड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी- सह-समन्वयक राकेश कुमार के द्वारा विभागीय निर्देशानुसार दिनांक 08/09/2023 को किया गया था।
जिसके विरोध में संगठन के प्रदेश अध्यक्ष संजय दुबे एवं जिला अध्यक्ष चंदन मेहता सहित प्रखण्ड के सैकड़ो शिक्षक मुखर हैं

उनका कहना है कि यह प्रतिनियोजन सहायक अध्यापक नियमावली 2022 के पंचायत एवं प्रखण्ड स्तर के प्रशासनिक सह अनुशासनिक प्राधिकार के विरुद्ध है। इस नियामवली के तहत प्रखण्ड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी द्वारा सहायक अध्यापकों का प्रतिनियोजन नहीं किया जा सकता है। इन्होंने अपने अधिकार क्षेत्र से हट कर किया है।

इसके विरोध में पारा शिक्षकों ने पुरजोर विरोध करते हुए कहा था कि यदि दो दिनों के अंदर शिक्षकों का प्रतियोजन रद्द नहीं होता है। तो गुरुवार से पारा शिक्षक आमरण अनशन पर बैठेंगे। और इसकी जिम्मेवारी विभाग की होगी। अब डीएसई द्वारा बीईईओ के पत्र को स्थगित करने के बाद पारा शिक्षकों की रणनीति आगे क्या होगी इस पर संघठन पुनः विचार कर सकता है।

बड़ी खबर : झारखंड बालिका आवासीय विद्यालय में पूर्णकालिक शिक्षिका की भर्ती

x

Leave a Comment