शिक्षकों की सेवा निवृत्ति उम्र 62 वर्ष करने को लेकर सौंपा मांग पत्र

शिक्षकों की सेवा निवृत्ति उम्र 62 वर्ष करने को लेकर सौंपा मांग पत्र

Join Us On

शिक्षकों की सेवा निवृत्ति उम्र 62 वर्ष करने को लेकर सौंपा मांग पत्र

शिक्षकों की सेवा निवृत्ति उम्र 62 वर्ष करने को लेकर सौंपा मांग पत्र

प्राथमिक शिक्षकों की सेवा निवृत्ति की उम्र 62 वर्ष करने से संबंधी एक मांग पत्र आज झारखंड प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ प्राथमिक शिक्षा निदेशक डॉ नेहा अरोड़ा को सौंपा । संघ के प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि वर्तमान समय में जीवन की औसत आयु में हुई बृद्धि ,शिक्षक नियुक्ति की प्रक्रिया में अनावश्यक विलम्ब एवं प्रोफेसर – लेक्चरर की सेवा निवृत्ति की उम्र 65 वर्ष के मद्देनजर प्राथमिक शिक्षकों की सेवा निवृत्ति की उम्र 62 वर्ष करना आवश्यक हो गया है ।

संघ ने दिसंबर 2004 से पूर्व विज्ञप्ति वाले शिक्षकों को वित्त विभाग द्वारा पुरानी पेंशन बहाली के लिए जारी संकल्प का लाभ शीघ्र देने , 2003 में विभागीय गलती से विलम्ब से नियुक्त शिक्षकों को परिकल्पित तिथि देने के लिए जारी प्राथमिक शिक्षा निदेशक का संकल्प 281 का लाभ राज्य के प्रभावित सभी शिक्षकों को अनिवार्य रुप से देने , अंतरजिला स्थानांतरण में मैच्युल ट्रांसफर को भी शामिल करने , राज्य में प्राथमिक शिक्षकों को MACP का लाभ देने , सरप्लस शिक्षकों की सूची में व्याप्त त्रुटियों में सुधार करने और तकनीकी रुप से ग्रस्त क्षेत्रों में कार्यरत शिक्षकों का बायोमैट्रिक अटेंडेंस ना बन पाने पर शिक्षकों के प्रति सख्ती नहीं बरतने से संबंधी ज्ञापना सौंपकर उचित कार्रवाई करने का आग्रह किया ।

प्राथमिक शिक्षा निदेशक ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वस्त किया कि 1-2 दिन के अंदर सभी जिला शिक्षा अधीक्षकों के साथ बैठक कर समस्याओं का समाधान कर लिया जाएगा। इससे पूर्व संघ की ओर से प्राथमिक शिक्षा निदेशक को पवन खेड़ा द्वारा रचित एक पुस्तक ‘जीत आपकी ‘ देकर सम्मान किया गया । प्रतिनिधिमंडल में संघ के प्रदेश अध्यक्ष शैलेंद्र सुमन, महासचिव प्रेम प्रसाद राणा, कोषाध्यक्ष लीलावती मिंज और प्रदेश प्रवक्ता दयानंद झा शामिल थे।

बड़ी खबर : JSSC परीक्षार्थियों के लिए पहली पसंद बनी जिले के युवा लेखक की यह पुस्तक, झारखंडी विधायक ने भी खूब सराहा

x

Leave a Comment