Search
Close this search box.

PGT के अभ्यर्थी बिनोद यादव ने ओबीसी के 27% आरक्षण को लेकर किया प्रेस कॉन्फ्रेंस

PGT के अभ्यर्थी बिनोद यादव ने ओबीसी के 27% आरक्षण को लेकर किया प्रेस कॉन्फ्रेंस

Join Us On

PGT के अभ्यर्थी बिनोद यादव ने ओबीसी के 27% आरक्षण को लेकर किया प्रेस कॉन्फ्रेंस

PGT के अभ्यर्थी बिनोद यादव ने ओबीसी के 27% आरक्षण को लेकर किया प्रेस कॉन्फ्रेंस

PGT के अभ्यर्थी / हजारीबाग : पीजीटी के अभ्यर्थी विनोद यादव ने झारखंड के ओबीसी को नियुक्तियों में भागीदारी नहीं देने को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सरकार के ऊपर गंभीर आरोप लगाए हैं।

पत्रकारों को संबोधित करते हुए विनोद यादव ने कहा कि पूरे देश में 52% है वहीं झारखंड में 40% ओबीसी वर्ग के लोग रहते हैं। झारखंड राज्य में 27% आरक्षण के बावजूद ओबीसी अभ्यर्थियों को उनके हक व अधिकार से दूर रखा जा रहा है।

तमाम राजनीतिक पार्टियों ने ओबीसी वर्ग को छलने का काम कर रही है। कोर्ट के दिशा निर्देश का भी पालन सरकार नहीं कर रही है। झारखंड सरकार के द्वारा प्रतिदिन ऑनलाइन एग्जाम ली जा रही है ।

ओबीसी रिक्तियां नगण्य देखी जा रही है जिसमें ओबीसी 2 के लिए एक भी पद नहीं है। जिसमें हिस्ट्री और हिंदी में नगण्य , इकोनॉमिक्स एवं इंग्लिश में एक, इस तरह सभी विषयों में कमोबेश स्थिति यही बनी हुई है। जिसके कारण ओबीसी वर्ग के अभ्यर्थी मायूस नजर आ रहे हैं । यह ओबीसी अभ्यर्थियों को ठगने का काम किया जा रहा है।

यदि सरकार अंतिम प्रतिफल जारी कर देती है तो ओबीसी वर्ग के अभ्यर्थी पढ़े लिखे युवा वर्ग आंदोलन करने को बाध्य होंगे। इतना ही नहीं जरूरत पड़ी तो हाई कोर्ट का भी दरवाजा खटखटाएंगे।

राजनीतिक पार्टियों को आने वाले लोकसभा एवं विधानसभा चुनाव में इसका जोरदार जवाब दिया जाएगा। लोग डोर टू डोर जाकर ओबीसी वर्ग के लोगों को जगाने का काम करेंगे।

विनोद यादव ने आगे बताया कि इसके पूर्व 4 अप्रैल 2023 को मनोज वर्मा नाम के द्वारा याचिका दायर किया गया था। जिसमें कोर्ट के द्वारा सरकार को साफ निर्देश दिया गया था कि आप अपना मंतव्य दें। तारीख पर तारीख पड़ रही है परंतु सरकार मंतव्य देने की जगह कोर्ट का उल्लंघन करते हुए नया वैकेंसी के लिए एग्जाम ले रही है ।

सरकार ओबीसी अभ्यर्थियों को छलने का काम कर रही है। हम सरकार से मांग करते हैं कि हमें 27% आरक्षण का पूरा लाभ मिले अन्यथा एक बड़े आंदोलन करने को बाध्य होंगे। प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्य रूप से विनोद यादव, किरण कुमार, सुरेश चौधरी धर्मनाथ कुमार दीपक कुमार मुनमुन प्रजापति आदि शामिल थे।

बड़ी खबर : झारखंड पुलिस को मिली बड़ी खुशखबरी : पुलिसकर्मियों की मौत पर परिजनों को मिलेगा 50 लाख से 1 करोड़ रुपये तक का मुआवजा.

x

Leave a Comment