Search
Close this search box.

आकलन परीक्षा देकर बाहर निकले पारा शिक्षकों में रोष , लगाए हेमन्त सोरेन मुर्दाबाद के नारे

आकलन परीक्षा देकर बाहर निकले पारा शिक्षकों में , लगाए हेमन्त सोरेन मुर्दाबाद के नारे

Join Us On

आकलन परीक्षा देकर बाहर निकले पारा शिक्षकों में , लगाए हेमन्त सोरेन मुर्दाबाद के नारे

आकलन परीक्षा देकर बाहर निकले पारा शिक्षकों में , लगाए हेमन्त सोरेन मुर्दाबाद के नारे

झारखंड के 81 केंद्रों पर आज पारा शिक्षकों का पहला आकलन परीक्षा संपन्न हो गई। परीक्षा में लगभग 43 पारा शिक्षक शामिल हुए। परीक्षा सुबह 10:30 बजे से 1 बजे तक था। अढ़ाई घण्टे के इस परीक्षा में कुल 150 अंकों की परीक्षा हुई। जिसमें 1 से 5 तक के लिए खोरठा 30 अंक, हिंदी और अंग्रेजी 15 – 15 अंक,बाल विकास 25 अंक , गणित 25 अंक, ईभिएस 25 अंक , मेंटल एबिलिटी 15 अंकों का पूछा गया।
वहीं 6 से 8 तक के लिए भी 150 अंकों का प्रश्न पूछे गए।

परीक्षा देकर बाहर निकले परीक्षार्थियों में रोष

इधर परीक्षा देकर बाहर निकल रहे परीक्षार्थियों में काफी रोष देखा गया। वह आकलनपरीक्षा में पूछे गए प्रश्न से काफी दुखी दिखे। उन्होंने कहा की आकलन परीक्षा में पूछे गए प्रश्न पूर्व में टेट परीक्षा में पूछे गए प्रश्न से भी कठिन था।

परीक्षार्थियों ने लगाए हेमंत सोरेन मुर्दाबाद के नारे

वही आकलन परीक्षा देकर बाहर निकल रहे परीक्षार्थियों में सरकार के प्रति काफी नाराजगी दिखी। हजारीबाग के एक परीक्षा केंद्र से बाहर निकल रहे परीक्षार्थियों ने इस दौरान हेमंत सोरेन मुर्दाबाद , झारखंड सरकार मुर्दाबाद के नारे भी लगाए। मारखम कॉलेज के परीक्षा केंद्र से बाहर निकले परीक्षार्थियों ने हेमंत सोरेन मुर्दाबाद , झारखंड सरकार मुर्दाबाद के नारे लगाते दिखे।

परीक्षार्थियों ने कहा कि यह सरकार नहीं चाहती कि पारा शिक्षकों का मानदेय बढ़े। यह आज के आकलन परीक्षा से साफ साफ दिख रहा है। पारा शिक्षक मनोज कुमार ने बताया कि आकलन परीक्षा मानदेय में वृद्धि होने की उम्मीद दिख रहा था। पर प्रश्न देखकर यह उम्मीद में पानी फिर गया। यह हमलोगों का आकलन परीक्षा था पर प्रश्न आईएस लेबल की तरह पूछे गए थे।

सफल होने पर बढ़ेगा मानदेय

सफल होने पर पारा शिक्षकों का मानदेय 10% तक बढ़ेगा।
जो शिक्षक परीक्षा में सफल नहीं होंगे, उन्हें परीक्षा पास करने के लिए तीन और अवसर दिये जायेंगे। शिक्षकों के लिए कुल चार आकलन परीक्षा होगी।

जो शिक्षक परीक्षा में सफल नहीं होंगे, उन्हें परीक्षा पास करने के लिए तीन और अवसर दिये जायेंगे। शिक्षकों के लिए कुल चार आकलनपरीक्षा होगी। परीक्षा में सफल नहीं होने पर भी शिक्षकों की सेवा बनी रहेगी, लेकिन उनके मानदेय में बढ़ोतरी नहीं होगी।

बड़ी खबर : झारखंड में 26 हजार शिक्षकों की नियुक्ति में हुआ ये बदलाव, रिजल्ट प्रकाशन के सात दिनों के अंदर देना होगा आवेदन, जाने क्यों

x

Leave a Comment