Search
Close this search box.

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने झारखंड मेडिको सिटी, रांची की स्थापना को लेकर अधिकारियों के साथ की उच्च स्तरीय बैठक

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने झारखंड मेडिको सिटी, रांची की स्थापना को लेकर अधिकारियों के साथ की उच्च स्तरीय बैठक

Join Us On

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने झारखंड मेडिको सिटी, रांची की स्थापना को लेकर अधिकारियों के साथ की उच्च स्तरीय बैठक

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने झारखंड मेडिको सिटी, रांची की स्थापना को लेकर अधिकारियों के साथ की उच्च स्तरीय बैठक
मुख्यमंत्री ने प्रस्तावित झारखंड मेडिको सिटी के प्रेजेंटेशन को देखा, दिए कई अहम निर्देश

रिनपास, रांची की लगभग 76 एकड़ जमीन पर बनेगा झारखंड मेडिको सिटी

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने आज झारखंड मेडिको सिटी, रांची की स्थापना को लेकर अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक की । इस मौके पर उन्होंने झारखंड मेडिको सिटी की कंसल्टेंसी एजेंसी अर्नेस्ट एंड यंग के प्रेजेंटेशन को देखा और कई अहम निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि रिनपास, रांची की जमीन पर पीपीपी मॉडल पर झारखंड मेडिको सिटी का स्थापना प्रस्तावित है। ऐसे में जमीन का उचित इस्तेमाल हो। निवेशकों को उनकी जरूरत के हिसाब से अस्पताल निर्माण के लिए जमीन दी जाए, इसका विशेष तौर पर ख्याल रखें।

कॉमन यूटिलिटी सर्विस तैयार करने में आधुनिकतम तकनीक का इस्तेमाल हो

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड मेडिको सिटी परिसर में कॉमन यूटिलिटी सर्विस- बिजली, पेयजल, सड़क, ड्रेनेज और सीवरेज, स्ट्रीट लाइट्स, बायो मेडिकल वेस्ट के डिस्पोजल के लिए आधुनिकतम तकनीकों इस्तेमाल किया जाए, ताकि देश -दुनिया के सामने इसे एक मॉडल मेडिकल हब के रूप में रख सकें।

सेंट्रलाइज्ड एंबुलेंस सर्विस की व्यवस्था हो

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड मेडिको सिटी में पीपीपी मॉडल पर कई सुपर स्पेशलिटी अस्पताल बनाए जाएंगे। ऐसे में सभी अस्पतालों के लिए अलग-अलग एंबुलेंस सेवा होने से यहां की व्यवस्था संभालने वालों के साथ मरीजों को भी परेशानी हो सकती है । ऐसे में सभी अस्पतालों के लिए सेंट्रलाइज्ड एंबुलेंस सेवा का सेटअप तैयार करें। ताकि, मरीजों को आवश्यकतानुसार एंबुलेंस से लाकर संबंधित अस्पताल में एडमिट किया जा सके।

प्रोफेशनल्स की सेवा लें

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड मेडिको सिटी में अस्पताल समेत अन्य चिकित्सीय संस्थान स्थापित करने में कई निवेशकों ने इच्छा जताई है । यह झारखंड के स्वास्थ्य व्यवस्था के लिए बेहतर कदम है। यहां खुलने वाले सभी अस्पताल और चिकित्सीय संस्थान होने वाले अस्पताल बेहतर तरीके से संचालित हों। यहां के मरीजों को उसका बेहतर लाभ मिले, इसके लिए प्रोफेशनल्स की सेवा लेने की जरूरत है।

कुछ ऐसा होगा प्रस्तावित झारखंड मेडिको सिटी

● रिनपास रांची कि लगभग 76. 34 एकड़ जमीन में झारखंड मेडिको सिटी विकसित किया जाएगा।

● पीपीपी मोड पर स्थापित होने वाले मेडिको सिटी में लगभग 4 हज़ार से 5 हज़ार करोड़ रुपए का निजी निवेश होगा।

● झारखंड मेडिको सिटी में 10 से ज्यादा मल्टी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल बनाए जाएंगे।

● यहां स्थापित होने वाले सभी अस्पतालों में लगभग 5000 बेड की व्यवस्था होगी।

● झारखंड मेडिको सिटी में 7500 से ज्यादा लोगों को प्रत्यक्ष और 22,500 से अधिक लोगों की अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलेगा।

● झारखंड मेडिको सिटी के विभिन्न अस्पतालों में 1100 सौ से ज्यादा विशेषज्ञ चिकित्सक और 6500 पारा मेडिकल स्टाफ होंगे ।

● यहां से प्रतिवर्ष लगभग तीन हज़ार करोड़ रुपये का राजस्व सरकार को मिलेगा।

● मेडिको सिटी में पहले चरण में कार्डियोलॉजी, न्यूरोसाइंस, ऑर्थोपेडिक्स, गैस्ट्रोलॉजी, ओपेथोमोलोजी, पल्मनोलॉजी, मैटरनल एंड चाइल्ड हेल्थ केयर, ऑर्गन ट्रांसप्लांट, नेफ्रोलॉजी तथा यूरोलॉजी से संबंधित मल्टी स्पेशलिटी सर्विस उपलब्ध होगी।

● यहां इमरजेंसी में मरीजों को एयर लिफ्ट करने के लिए हेलीपैड की भी व्यवस्था होगी।

● मेडिकल मॉल एवं डायग्नोस्टिक सेंटर, फिजिकल थेरेपी एंड रिहैबिलिटेशन, होटल और सर्विस अपार्टमेंट की भी सुविधा झारखंड मेडिको सिटी में मिलेगी।

*_इस बैठक में स्वास्थ्य मंत्री श्री बन्ना गुप्ता, मुख्य सचिव श्री सुखदेव सिंह, स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री अरुण कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्रीमती वंदना डाडेल, प्रधान सचिव श्री अजय कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव श्री विनय कुमार चौबे, सचिव श्री अमिताभ कौशल, सचिव श्री जितेंद्र कुमार सिंह, एनएचएम के मिशन डायरेक्टर श्री भुवनेश प्रताप सिंह, रिनपास की निदेशक डॉ जयन्ती सिमलाय , निदेशक प्रमुख स्वास्थ्य सेवाएं श्री वीरेंद्र प्रसाद सिंह और अर्नेस्ट एंड यंग कंसल्टेंसी के प्रतिनिधि मौजूद थे।

बड़ी खबर :क्यों याद नहीं रहता पिछला जन्म? बड़ी रोचक है इसकी वजह, जानें धार्मिक और वैज्ञानिक दृष्टिकोण

x

Leave a Comment