Search
Close this search box.

महुआ से अब नहीं बनती सिर्फ शराब, आचार लड्डू और शक्ति पाउडर बना रही महिलाएं

महुआ से अब नहीं बनती सिर्फ शराब, आचार लड्डू और शक्ति पाउडर बना रही महिलाएं

Join Us On

महुआ से अब नहीं बनती सिर्फ शराब, आचार लड्डू और शक्ति पाउडर बना रही महिलाएं

महुआ से अब नहीं बनती सिर्फ शराब, आचार लड्डू और शक्ति पाउडर बना रही महिलाएं





झारखंड जंगल से घिरा राज्य है। यहाँ के जंगलों में कई प्रकार के फल, फूल और औषधीय पौधे बहुतायत में पाए जाते हैं। झारखंड के जंगलों की इस विशेष प्रकृति ने सरकार को वन उत्पादन में अग्रणी भूमिका निभाने में सक्षम बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। राज्य में इमली, लाख, चिरौंजी और महुआ जैसे वन उत्पाद बहुतायत में पाए जाते हैं। यहां महुआ की खासी भरमार है।

महुवा के पेड़ राज्य के कई जिलों जैसे रांची, हजारीबाग, चतरा, लोहरदगा, पलामू और बोकारो में पाए जाते हैं। झारखंड में महुआ को खराब माना जाता है क्योंकि इससे मादक पेय बनाया जाता है। लेकिन अब इस पहचान को बदलने की कोशिशें हो रही हैं.




झारखंड में कई ऐसे संगठन हैं जो महुवा के वैकल्पिक उपयोगों को उजागर करने में सफल रहे हैं। खासतौर पर महिलाओं ने ऐसा किया है और शराब की जगह तरह-तरह के पौष्टिक आहार तैयार करती हैं। स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं ने भी ऐसे ही प्रयासों में बड़ी सफलता के साथ भाग लिया है। बदलाव के दौर से गुजर रहे गांव पर उनका काफी प्रभाव है।




महुआ उत्पादों की बढ़ रही मांग

समूह की महिला पार्वती देवी का कहना है कि पहले गांव में महुआ शराब का उत्पादन होता था, इससे समाज में कुरीतियां फैलीं, लोगों के स्वास्थ्य में गिरावट आई, उन्होंने अपने बच्चों की पढ़ाई पर ध्यान नहीं दिया, लेकिन अब अगर
जब से गांव में महुआ का उपयोग बदला है, गांव में काफी सुधार हुआ है। अब बच्चों को अच्छी शिक्षा मिल रही है। लोगों की आय में वृद्धि हुई है। साथ ही अब वह महुआ के पौष्टिक तत्वों का सेवन कर रहे हैं। इस गांव की महिलाएं महुआ से लड्डू, आचार, जैम, महुआ हॉलिक्स, महुआ शक्ति पाउडर और महुआ शक्ति बार्ली का उत्पादन करती हैं। इसकी शुरुआत 2015 में हुई थी। तब से गांव के बाहर महुआ उत्पादों की काफी मांग बढ़ी है।




बारिश और खराब मौसम का सामना करना पड़ रहा किसानों को

पार्वती देवी का कहना है कि उनके पास खुद के 40 महुआ के पेड़ हैं, जिनसे पांच से छह क्विन्टल महुआ मिलता है। इसके अलावा गांव में एक हजार से अधिक महुआ के पेड़ हैं। हर सुबह महुआ के मौसम में इन पेड़ों के नीचे कई महुआ इकट्ठा करने वाले इकट्ठा होते हैं। लड्डू और अन्य महुआ सामग्री बनाने वाली महिलाएं इतनी जागरूक हो गई हैं कि अब वे गांव में बुजुर्गों को प्रशिक्षित करने के लिए प्रौढ़ शिक्षा कार्यक्रम भी चलाती हैं। यह काम समूह की 15 महिलाएं करती हैं। सब कुछ ठीक चल रहा है, लेकिन पार्वती देवी का कहना है कि खराब मौसम से महुआ किसान भी झेलना पड़ता हैं।




महुआ को चुनने के बाद तेज धूप में सुखाने की जरूरत होती है, लेकिन इस बार महुआ बारिश और ओलों के कारण ठीक से नहीं सूख पाई, इसलिए इसकी गुणवत्ता में गिरावट आ गई। पार्वती देवी ने बताया कि इस बार बारिश से 50 प्रतिशत महुआ को नुकसान हुआ है।

बड़ी खबर : Jharkhand School of Excellence Admission 2023 सब कुछ फ्री हो जाएगा साथ ही स्कॉलरशिप मिलेगा



x

Leave a Comment