Search
Close this search box.

IMD Monsoon Forecast: मॉनसून में खूब होगी बारिश, बढ़ती गर्मी के बीच IMD ने सुनाई गुड न्‍यूज

Join Us On

IMD Monsoon Forecast: मॉनसून में खूब होगी बारिश, बढ़ती गर्मी के बीच IMD ने सुनाई गुड न्‍यूज

 

 

 

 

IMD Monsoon Forecast Today:अल नीनो एक आवृत्ति है जो समुद्री तापमान के साथ-साथ उत्तरी प्रशांत महासागर के जल गतिविधियों को भी प्रभावित करती है। यह सामान्य रूप से दो साल में एक बार होती है और यह लगभग 9 महीने तक चलती है। इस आवृत्ति के दौरान, प्रशांत महासागर के उत्तरी और मध्यीय भागों में ऊंचे दबाव वाले क्षेत्रों में गर्म पानी उठता है और फिर दक्षिण की ओर बहता है। इस प्रक्रिया के दौरान, प्रशांत महासागर के पश्चिमी हिस्से में ठंडी लहरें भी उत्पन्न होती हैं जो अलग-अलग दिशाओं में फैलती हैं

भारत मौसम विज्ञान विभाग ने मॉनसून में सामान्य बारिश हो सकती है  और यह अधिकतम रूप से उत्तर भारत में होने की उम्मीद लगाई जा रही है।  दूसरे हाफ पर अल नीनो का असर दिखाई दे सकता है जो मॉनसून में काफ़ी विपरीत प्रभाव डालता है और जिससे मॉनसून कमजोर  भी हो सकता है। इसलिए, भारत मौसम विज्ञान विभाग ने इस विषय पर ध्यान देने की सलाह दी है।

 

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ,  मंगलवार को मॉनसून 2023 के लिए एक सामान्य पूर्वानुमान जारी की ।  साउथवेस्ट मॉनसून के बीच देशभर में दीर्घकालिक औसत (LPA) की 96% बारिश  का आसार हैं जो  सामान्य से थोड़ा ज्यादा भी है। इस बार LPA 87 सेंटीमीटर  है।

 मॉनसून के दूसरे हाफ पर अल नीनो का असर देखने का खतरा है जो कि मॉनसून में विपरीत प्रभाव डालता है , जिससे मॉनसून कमजोर हो सकता । इसलिए, मौसम विभाग ने अल नीनो पर निगरानी की सलाह दी है।

 

मॉनसून की बारिश ,  IMD ने दी गुड न्‍यूज

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) की अनुसार, मॉनसून 2023 में दक्षिण-पश्चिम  में सामान्य बारिश की संभावना हो सकती है , जो प्रायद्वीपीय भारत के बहुत सारे इलाकों के साथ-साथ नॉथ-वेस्ट इंडिया और नॉर्थ-वेस्ट इंडिया के कुछ हिस्सों में हो सकती है। पश्चिम-मध्य भारत और नॉर्थ-वेस्ट इंडिया के कुछ इलाकों में स बारिश की संभावना भी है। 

 

सामान्‍य से बारिश का 67% चांस: IMD

अल नीनो विशेष प्रकार का जलवायुीन काफ़ी बदलाव देखने को मिल सकता  है जो कि प्रभावी रूप से मॉनसून को पूरा बदल देता है। इसी दौरान ऊपरी तापमान  भी उत्तरी एटलांटिक , समीप और तेजी से  घटती है  ,  जिससे समुद्री तापमान में भी काफ़ी बदलाव  होते है। 

इस साल अल नीनो का प्रभाव देखने की संभावना होने के बावजूद, आईएमडी  की 67% संभावना बताई  जा रही है। इससे यह पता चलता है कि अल नीनो इस साल मॉनसून को पूरी तरह  प्रभावित नहीं करेगा।

 

मौसम विभाग ने बताया कि , कैसा रहेगा मॉनसून 2023

Skymet ने  मौसम पूर्वानुमान में क्‍या कहा

स्काईमेट के मुताबिक,  मॉनसून सीजन के दौरान देश में ‘सामान्य से कम’ बारिश होने की काफ़ी संभावना है। एजेंसी ने कहा ,  ला नीना की स्थिति खत्म होने पर और अल नीनो के फैलने से सूखे पर 20 फीसदी संभावना हो सकती है। स्काईमेट ने बताया था कि जून और सितंबर के बीच मानसून की बारिश 868.6 मिलीमीटर की लंबी अवधि के औसत  में लगभग 94% होगी। महाराष्ट्र,  और मध्य प्रदेश में जुलाई-अगस्त  के दौरान अपर्याप्त वर्षा की संभावना हो सकती है,  मानसून के मौसम की दूसरी छमाही में पंजाब, हरियाणा,  और उत्तर प्रदेश  पर सामान्य से कम बारिश होने की संभावना है।

 

x

Leave a Comment