Search
Close this search box.

झारखंड में असिस्टेंट प्रो के पद पर कार्य करने वाले लोगों के लिए खुशखबरी, खत्म हुई पीएचडी प्वाइंट की बाध्यता

Join Us On

झारखंड में असिस्टेंट प्रो के पद पर कार्य करने वाले लोगों के लिए खुशखबरी, खत्म हुई पीएचडी प्वाइंट की बाध्यता

झारखंड में असिस्टेंट प्रो के पद पर कार्य करने वाले लोगों के लिए खुशखबरी, खत्म हुई पीएचडी प्वाइंट की बाध्यता

रांची: झारखंड में असिस्टेंट प्रोफेसर पर नौकरी चाहने वालों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है। बता दें कि झारखंड में असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति में अब विश्वविद्यालयों व कॉलेजों को मिली नैक ग्रेडिंग के आधार पर पीएचडी प्वाइंट की अनिवार्यता को खत्म कर दी गई है।

बता दें कि सरकार की ओर से ऐसे कदम उठाकर झारखंड के युवाओं की अधिक से अधिक भागीदारी सुनिश्चित करने के प्रयास किया जा रहा है। वहीं झारखंड सरकार अब यूजीसी एक्ट 2018 के प्रस्ताव में भी संशोधन करने जा रही है और जल्द ही इससे संबंधित प्रस्ताव को आगामी 10 को होने वाले कैबिनेट की बैठक में लाया जायेगा।

झारखंड के किसी भी विवि को नैक से ए या फिर ए प्लस की नहीं मिली है ग्रेडिंग

बता दें कि झारखंड के किसी भी विश्वविद्यालय को नैक से ए या फिर ए प्लस ग्रेडिंग अभी तक नहीं मिली है। इससे झारखंड के अभ्यर्थियों को नियुक्ति में कम प्वाइंट मिलने की संभावना थी, जिसे लेकर राज्य के युवाओं ने विभिन्न स्थानों पर आंदोलन भी किया था।

साथ ही राज्य के लगभग सभी विवि ने भी नैक ग्रेडिंग की बाध्यता हटाने संबंधी प्रस्ताव सिंडिकेट से स्वीकृत करा कर राज्य सरकार के पास विचार करने के लिए भेजा था। इस बीच राज्य सरकार ने असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति में झारखंड के विवि व कॉलेजों में नियुक्त घंटी आधारित शिक्षकों को भी एक बार प्राथमिकता देने का निर्णय लिया है।

जानें क्या है नैक ग्रेडिंग के आधार पर प्वाइंट

बता दें कि एक से 100 एनआइआरएफ रैंकिंग वाले या ए प्लस और ए प्लस प्लस संस्थान से पीएचडी करने पर 30 प्वाइंट, पीएचडी प्लस यूजीसी नेट होने पर 35 प्वाइंट व पीएचडी प्लस यूजीसी नेट (जेआरएफ) होने पर 40 प्वाइंट मिलते है। इसी प्रकार एनआइआरएफ रैंकिंग 101-200 या नैक से ए/बी प्लस प्लस ग्रेड वाले संस्थान से पीएचडी करने पर 15 प्वाइंट, पीएचडी प्लस यूजीसी नेट होने पर 22 प्वाइंट और पीएचडी प्लस यूजीसी नेट (जेआरएफ) होने पर 27 प्वाइंट मिलते है।

इसके अलावा अन्य संस्थान/विश्वविद्यालय से केवल पीएचडी करने पर पांच प्वाइंट, पीएचडी प्लस यूजीसी नेट होने पर 20 प्वाइंट और पीएचडी प्लस यूजीसी नेट(जेआरएफ) होने पर 25 प्वाइंट मिलते है। बिना पीएचडी के यूजीसी जेआरएफ रहने पर 25 प्वाइंट, यूजीसी नेट रहने पर 20 प्वाइंट व झारखंड पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण रहने पर 15 प्वाइंट मिलते है। इसके अलावा रिसर्च पब्लिकेशन पर भी प्वाइंट निर्धारित किये गये हैं

। यूजीसी जर्नल या एससीआइ जर्नल में एक रिसर्च पब्लिकेशन पर एक अंक दिये जाते है। इसमें 10 प्वाइंट निर्धारित किये गये हैं और शिक्षण अनुभव पर भी 10 प्वाइंट रखे गये हैं। वहीं अगर किसी को नेशनल अवार्ड मिले है तो तीन प्वाइंट व राज्य सरकार द्वारा दिये गये अवार्ड पर दो प्वाइंट दिये जाते है।

x

Leave a Comment