सरकारी हो या पारा शिक्षक अब ये करना अनिवार्य, शिक्षा सचिव ने जारी किया सख्त निर्देश , अब फांकीबाजों की खैर नहीं

Join Us On

सरकारी हो या पारा शिक्षक अब ये करना अनिवार्य, शिक्षा सचिव ने जारी किया सख्त निर्देश , अब फांकीबाजों की खैर नहीं

सरकारी हो या पारा शिक्षक अब सबों को अनिवार्य रूप से ये काम करना पड़ेगा।

शिक्षा सचिव के रवि कुमार ने शिक्षकों को 15 नवम्बर तक अंतिम समय दिया है। 15 नवंबर के बाद सीधे कार्रवाई होगी।


स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग ने शिक्षकों के लिए कई निर्देश दिए हैं। जिसको पूरा करने के लिए 15 नवंबर तक की डेटलाइन तय की है।
जारी आदेश में झारखंड के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को लेशन प्लान अनिवार्य रूप से तैयार कर पढ़ाना होगा। बिना लेशन प्लान के शिक्षक क्लास नहीं लेंगे। लेसन प्लान तैयार के लिए 15 नवम्बर तक समय दिया गया है। 15 नवंबर के बाद स्कूलों के औचक निरीक्षण में लेशन प्लान नहीं मिला तो संबंधित स्कूल के प्रधानाध्यापक समेत शिक्षकों के विरूद्ध कार्रवाई होगी।

गौरतलब हो कि शिक्षा सचिव के रवि कुमार ने रांची के स्कूलों का औचक निरीक्षण पिछले दिनों किया था। इसमें इस तरह की खामियां सामने आई थीं। इसके बाद उन्होंने तत्काल रांची के जिला शिक्षा पदाधिकारी और जिला शिक्षा अधीक्षक समेत राज्य के सभी डीईओ-डीएसई को इस पर अमल करने का निर्देश दी थी।साथ ही राज्य के सरकारी स्कूलों में बच्चों की कम हो रही उपस्थिति पर भी उन्होंने नाराजगी जाहिर की है।

उन्होंने स्पष्ट रूप से स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति बढ़ाने का भी निर्देश दिया है। कहा है कि जब सरकार स्कूलों में संसाधन उपलब्ध करा रही है, तो बच्चों की उपस्थिति में वृद्धि क्यों नहीं हो रही है। इसे जिले से लेकर स्कूल स्तर पर सुनिश्चित करने के लिए भी कहा था।

शिक्षा विभाग जारी करेगा एसओपी

स्कूलों को सख्त निर्देश दिया जाएगा कि जो भी कमियां हैं, उसे झारखंड के स्थापना दिवस के पहले दूर कर ली जाए। सरकारी स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति, लेशन प्लान, व्यवस्था, स्कूल ड्रेस, स्कूल किट समेत अन्य संसाधन जो स्कूलों में उपलब्ध होने हैं, उसे सुनिश्चित कराने के लिए शिक्षा विभाग एसओपी जारी करेगा।

स्कूल के प्रधानाध्यापक से लेकर शिक्षको को इसे सुनिश्चित करना पड़ेगा। जबकि प्रखंड और जिला के पदाधिकारी इसका मॉनिटरिंग करेंगे।

शिक्षा मंत्री ने दिया एल्टीमेटम


शिक्षा मंत्री ने भी उपस्तिथि कम पर चिंता जाहिर की है। साथ ही 15 नवंबर तक बच्चों को पोशाक की राशि मिलने के साथ नई ड्रेस के साथ क्लास में उनकी उपस्थिति बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने बच्चों और अभिभावकों से स्कूल भेजने की अपील की थी, साथ ही अधिकारियों एवं शिक्षकों को भी इसे सुनिश्चित कराने के लिए कहा था।

बड़ी खबर : अनुबंध पर कार्यरत कर्मियों के समायोजन की तैयारी में झारखंड सरकार

बड़ी ख़बर : स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग की समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने अनुबंध आधारित शिक्षकों को भरने का दिया निर्देश

सरकारी हो या पारा शिक्षक

x

Leave a Comment